बुधवार, 12 सितंबर 2018

How to improve our personality development #7 Hindi

How to improve our personality development #7 Hindi



Persnality development
How to improve your personality development

आज तक हमने personality development में हमारे  बाहर की personality  उसके बारे में चर्चा करी है लेकिन आज हम बात करेंगे हमारे अंदर की personality के बारे में सिर्फ हमारा बाहरी दिखावा अच्छा होने से हम अपनी लाइफ में सक्सेसफुल नहीं हो सकते इसलिए पर्सनालिटी के साथ-साथ सक्सेसफुल होना भी बहुत जरूरी है मेरे कहने का मतलब यह है कि हमारी सोच कैसी होनी चाहिए क्योंकि हमारी सोच ही हमें आगे बढ़ने की प्रेरणा देती हैं और हमारी सोच ही हमें सक्सेसफुल बनाते हैं इसलिए सोच कैसे अच्छी रखें और हमारी सोच भी एक पर्सनालिटी डेवलपमेंट में बहुत इंपोर्टेंट है , ज्यादा वक्त ना लेते हुए हम बात करेंगे सोच के बारेमें , 

Thinking of personality


दोस्तों यह बात जरूरी नहीं है कि जिसके पास नॉलेज है उसी के पास अच्छी सोच है और वही जिंदगी में कुछ अच्छा कर सकता है यानी कि जिंदगी में सफल इंसान बन सकता है क्योंकि किसी भी कंपनी के ceo ज्यादा इंटेलिजेंट हो यह बहुत जरूरी नहीं है उनके नीचे काम करते हुए एंप्लोयेड उससे ज्यादा इंटेलिजेंट होते हैं और यह बात सही है , दोस्तों नॉलेज और सोच का डायरेक्ट कनेक्शन बिल्कुल नहीं है क्योंकि सोच उनकी भी बड़ी होती है जिनके पास नॉलेज होता है और सोच उनकी भी बड़ी होती है

जिनके पास नॉलेज बिल्कुल भी नहीं होता , अब दूसरी बात की स्वच्छ बड़ी रखने के लिए हमारे पास रिसोर्सेज है या नहीं है इसका कोई मतलब नहीं है अर्थात दोस्तों कुछ भी काम करने से पहले हमारे पास पैसे है या नहीं ह उस पर कभी भी चर्चा ना करें क्योंकि बड़ी-बड़ी कंपनियां जब start होती है ना तब वह  बहुत छोटी होती है लेकिन अर्थात मेहनत और लगन के साथ वह बहुत ऊंचाई को पार करती है ,

example हमारे पास एप्पल के नाम पर है क्योंकि शायद ही कोई इंसान Apple के बारे में जानता ना होगा , और आखिरी बात यह है दोस्तों की अपनी सोच को प्रदर्शित करने की कोई उम्र नहीं होती क्योंकि KFC का जो मालिक है उसने KFC की KFC की जब करी थी तब वह 62 ईयर का था , और जब बिल गेस्ट ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी की शुरुआत करी थी तब वह बिल्कुल यंग था इसलिए अपनी उम्र और हमारे सोच के बीच में कोई भी डायरेक्ट कनेक्शन नहीं है , अब मैं बात करूंगा थिंकिंग ऑफ़ पर्सनालिटी  आखिर हमें अपनी सोच कैसे रखनी चाहिए ,

रविवार, 9 सितंबर 2018

How to improve our personality development #6 Hindi

How to improve our personality development #6 Hindi 


Personality development
How to improve your personality development


दोस्तों आज का जो हमारा personality development का सेशन है इस पर हम बात करेंगे हमारे ड्रेसिंग सेंस के बारे में क्योंकि बॉडी लैंग्वेज पर्सनालिटी , conversation personality ,  extraordinary communication skill personality , और भी बहुत सारी पर्सनालिटी के बारे में और भी बात करिए लेकिन इन सब का महत्व तभी है जब हमारा ड्रेसिंग सेंस अच्छा हो क्योंकि जब आप किसी के सामने आते हो तो सबसे पहले आपके आइस कांटेक्ट होते हैं जिसमें आपका पूरा बॉडी इंपॉर्टेंट आता है

दोस्तों आप किसी इंटरव्यू के लिए जाते है तब जब आप दरवाजा खोलते हैं तब सबसे पहले आपका पूरा बॉडी सामने वाले के ब्रेन में जाता है और वहीं पर आपकी फर्स्ट इंप्रेशन पड़ जाती है इसलिए फर्स्ट इंप्रेशन के लिए सबसे ज्यादा महत्व है हमारा ड्रेसिंग सेंस कैसा होना चाहिए ड्रेसिंग सेंस और जगह पर अलग-अलग होता है ,

आप कभी भी किसी के शुभ प्रसंग में जा रहे हो और सफेद कपड़े पहन कर जाए तो  अच्छा नहीं लगता यह सब कुछ जो मैं कह रहा हूं यह सब कॉमन है लेकिन फिर भी कुछ मेन टॉपिक तो यहां पर मैं बात करना चाहता हूं हम यहां पर उनके बारे में बात नहीं करेंगे जो आप को पहले से ही पता है मैं यहां पर इन चीजों के बारे में बात कराओ करूंगा जो आपको शायद नहीं पता है और किसे पता  उसके लिए भी कुछ ना कुछ काम की चीज मैं यहां पर जरूर छोड़कर जाऊंगा

smart dressing sense personality


अपने घर पर हम किस तरह के कपड़े पहने किस तरह से बिहेव करें किस तरह से रहे वह सब कुछ मैं यहां पर नहीं बता रहा हूं मैं उनके बारे में बात कर रहा हूं जो आपको अपने समाज को दिखाना है आप अपने समाज को के सामने अपनी छवि किस प्रकार रखना चाहते रख इसके बारे में यहां बात कर रहा हूं , 

दोस्तों जब मैंने personality development के ड्रेसिंग सेंस के बारे में लिखने के बारे में सोचा तो मैंने बहुत सारे लोगों के वीडियोस और आर्टिकल पड़े थे उसमें से मुझे कुछ ऐसी बातें पता चली जो शायद मैं आपको बता दूं क्योंकि वह भी बहुत इंपॉर्टेंट था बाद में मैं अपनी बात भी करूंगा ,

सब के दिमाग में एक बहुत ही बुरी बात छप गई है और वह है कि अगर हम किसी इंटरव्यू के लिए जाते हैं तो हमारे जो कपड़े हैं वह बिल्कुल महंगे होने नहीं चाहिए वह बिल्कुल नॉर्मल होने चाहिए क्योंकि वहां बैठे हुए लोगों को वही लोग पसंद आते हैं एक बात बताइए दोस्तों आपने कभी बहुत अमीर इंसान को गरीब इंसान के साथ देखा है जरूर देखा होगा लेकिन वह सब कुछ पहले होता था लेकिन आज यहां पर गरीबों का कोई भी नहीं है लोग अपने जैसे लोगों को पसंद करते है ,

कहने का मतलब यह है कि जो लोग इंटरव्यू लेने के लिए वहां पर बैठे होगे वह लोग बहुत कह बड़े लोग हो गए फिर सोचे उनका ड्रेसिंग सेंस कैसा होगा सिंपल सी बात है बहुत ही अच्छा होगा फिर उन्हें कैसे लोग पसंद आएगी वह लोग जिनका ड्रेसिंग सेंस अच्छा होगा या फिर वह लोग जिनका ड्रेसिंग सेंस अच्छा नहीं होगा यहां पर भी सिंपल सी बात हे उन्हें वही लोग पसंद आएंगे जिनका ड्रेसिंग अच्छा होगा ,

इसलिए अपना ड्रेसिंग सेंस इंटरव्यू के दौरान भी बहुत वर्क करता इस लेकिन कुछ बातें हैं जो यहां पर ध्यान रखना जरूरी है और वह यह है कि हमारा इंटरव्यू के दौरान बहुत ब्राइट नहीं होना चाहिए यानी कि इतना भी कलरफुल नहीं होना चाहिए कि सामने वाले को हताश कर दे सबसे सिंपल आसान तरीका जो मैंने संदीप महेश्वरी से सीखा है ,

मैं अपने को भी बताना चाहता हूं कि जब भी आप किसी इंटरव्यू के लिए जाए तो आप किसी बड़े शॉपिंग मॉल के दर्शन करें वहां पर जाकर देखें कि आखिर ब्रांडेड चीजें होती कैसी है आपको वहां पर जाकर सिर्फ देखना है आपके दिमाग में सारी की सारी चीजों के पैटर्न लॉक जाए तब वही पैटर्न को लेकर आप किसी सस्ती दुकान पर जाएं और उस पैटर्न के हिसाब से कपड़े खरीदे जिस वजह से आपका ज्यादा खर्चा भी नहीं होगा और आपके पास एक ब्रांडेड कपडा भी आ जाएगा ,

शुक्रवार, 7 सितंबर 2018

How to improve our personality development #5 Hindi

How to improve our personality development #5 Hindi 

 personality development की सीरीज में हमने  तीन चीजों के बारे में बात करि , सबसे पहले personality development की सीरीज में हमने बात करी है कन्वर्सेशन के बारे में  उसके बाद बॉडी लैंग्वेज और लास्ट में हमने बात करी थी कम्युनिकेशन स्किल के बारे में , आज हम कुछ ऐसे साइन के बारे में बात करेंगे जो हमें बताते हैं कि हमारी पेर्सोनोलिटी अच्छी हैं ,

हमने अपनी पर्सनालिटी को डेवलप कर ली लेकिन हमें पता कैसे चलेगा कि हम एक परफेक्ट इंसान हैं इसलिए कुछ ऐसे साइन है जो हमें बताते हैं कि हां यार अब हम लोगों के सामने बात करने के लिए सक्षम है , बिना टाइम वेस्ट किए हम सीधे चलते हैं पेर्सोनोलिटी डेवलपमेंट के साइन की ओर ,


Personality development
How to improve your personality development

                  sign of a strong personality


अपने आप से प्यार करे ( love your self ) 

सबसे पहला और सबसे इंपोर्टेंट साइन जो अभी मैं आप सबको बताने वाला हूं उसे हमेशा के लिए अपने दिमाग में बैठा लीजिये , दोस्तों हम सब की एक बहुत बड़ी प्रॉब्लम होती है कि हमें अपने से ज्यादा दूसरों की चीज दूसरों की पर्सनालिटी और सब कुछ हमें सिर्फ दूसरों का पसंद आता है इसलिए सबसे पहली बात यह है कि आप अपने आप से प्यार करना सीखें यह सबसे बड़ा साइन है अगर आप अपने आप को जैसे हैं वैसे एक्सेप्ट कर लेंगे तो इससे बड़ा साइन और इससे बड़ी बात पर्सनालिटी डेवलपमेंट कि इस सीरीज पर और कोई भी नहीं है जो मैं आप सब को बताना चाहता हु ,

आज कल हर इंसान सब कुछ सिर्फ और सिर्फ देखा देख  मैं करता है अगर उसके पास यह है तो मेरे पास भी होना चाहिए अगर उसे यह बजाना आता है तो मुझे भी बजाना आना चाहिए हर इंसान चाहता है कि सामने वाला जो कुछ कर सकता है वह मैं भी कर सकूं लेकिन ऐसा पॉसिबल नहीं है दोस्तों सिंपल सा एग्जांपल देता हूं दोस्तों कि अगर लता मंगेशकर यह सोचे कि मुझे क्रिकेट खेलना है और सचिन तेंदुलकर यह सोचे कि मुझे एक सिंगर बनना है तो क्या वह यह कर सकते हैं

इसीलिए कहता हूं दोस्तों जो अपने पास है उसमे खुश  रहना सीख लीजिए और यकीन मानिए दोस्तों जो हमारे पास है उससे बेहतर और किसी के पास कुछ भी नहीं है और यह सोच अगर आप अपने दिमाग में एक बार बैठा ले तो मैं दावा करता हूं कि आप अपने आप को पहचान पाएंगे , मैं यहां पर्सनालिटी की बात कर रहा हूं इसलिए टॉपिक चेंज कर कर मोटिवेशन के और नहीं जाना चाहता , 

बुधवार, 5 सितंबर 2018

How to improve our personality development #4 Hindi

How to improve our personality development #4 Hindi 

personality development
How to improve your personality development




personality development के सेकंड पार्ट में हमने बात करी  कि लोगों के सामने कन्वर्सेशन कैसे करें आज हम personality development  मे बात करेंगे एक्स्ट्राऑर्डिनरी कम्युनिकेशन स्किल के बारे में , अब कुछ लोगों का सवाल होगा कि आखिर यह होता क्या है , आप लोगों ने बहुत बार लोगों को झगड़ते हुए देखा होगा और बहुत सारे लोगों को किसी बात पर बहस करते हुए देखा होगा हर इंसान अपनी अपनी बातों को लेकर एक दूसरे के सामने बहस करता रहता है कि मैं जो कह रहा हूं वह सही है और तुम जो कह रहे हो वह गलत है ,

लेकिन कभी आप किसी जगह पर यह सब देखें या फिर आप भी कभी यह सब कुछ करते हो इसका मतलब है कि आपकी जो एक्स्ट्राऑर्डिनरी कम्युनिकेशन स्किल है वह एकदम बकवास है क्योंकि हम किसी बात को लेकर अगर किसी के साथ बहस करते हैं इसका मतलब यह है कि हम को किसी के साथ बातें करने नहीं आती अगर हम लोग के साथ बातें करना सीख जाएंगे तभी हम एक अच्छे कम्युनिकेटर बन सकेंगे इसलिए आज का टॉपिक यही है कि हम अपनी एक्स्ट्राऑर्डिनरी कम्युनिकेशन को कैसे इंप्रूव करें , 

how to improve our extraordinary communication skill 

Personality development
How to improve your personality development

 किसी आर्गुमेंट को अगर आप डिस्कशन में कन्वर्ट करते हो इसे कहते हैं कि हमारी जो एक्स्ट्राऑर्डिनरी कम्युनिकेशन स्किल है वह पर्फेक्ट है यानी  अगर आप कोई सेल्समैन हो और किसीने आपके प्रोडक्ट की आपके सामने बुराई करी इसका मतलब यह नहीं है कि आप उसके सामने argument पर लग जाओ उसके साथ उससे एग्री हो कर उसके साथ बातें करोगे और उस कम्युनिकेशन को एक डिस्कशन का रूप दे दोगे इसका मतलब है कि आप एक अच्छी कम्युनिकेशन स्किल करते हो ,

सोमवार, 3 सितंबर 2018

How to improve our personality development #3 Hindi

How to improve our personality development #3 Hindi



How to improve our personality development
How to improve your personality development


पिछली बार personality development की सीरीज पर हमने बात करी थी कि हम किसी के साथ  कम्युनिकेशन कैसे करे , आज  personality development का जो टोपीक वह है हमारी बॉडी लैंग्वेज के बारे में , बहुत बार आपने देखा होगा कि जब आप अपने दोस्तों के साथ बातें करते हैं तब आपका ध्यान कहीं और होता है आप बैठे वहां पर है लेकिन आपका मन और आपका दिमाग कहीं और ही चल रहा है उसे हम कहते हैं नर्वस होना या फिर किसी बात से डरना ,

जैसे की हम कभी किसी जॉब इंटरव्यू हो जाते हैं तब भी हमारे यहां होता है वहां बैठे हुए हर इंसान नर्वस होकर बैठा है इस वजह से आप अपने आप को अगर नर्वस नहीं है फिर भी नर्वस फील करवाते हैं इस सब का जो डायरेक्ट कनेक्शन है वह है हमारी बॉडी लैंग्वेज पर ,

हमारी बॉडी लैंग्वेज चेंज हो जाए तो हर मोमेंट हमारा चेंज हो जाता है इसलिए अपनी बॉडी लैंग्वेज को चेंज करना personality development की सीरीज के दौरान बहुत जरूरी है और आज हम  अपनी बॉडी लैंग्वेज को चेंज कैसे करें उसके बारे में जानेगे , 

personality development for job interview


जब आप किसी सोच में डूबे हुए हैं तो एक बार आप अपनी बॉडी को पूरी तरह से  देखें कि आपका हाथ कहां पर है आपका पैर क्या मूवमेंट दे रहा है आपकी पूरी बॉडी किस तरह से है  सब कुछ देखें जब आप यह सब कुछ देखेगे तो आपको पता चलेगा , सबसे पहली बात कि अगर आप अपनी बॉडी को टेढ़ी-मेढ़ी कर कर बैठे हैं इसका मतलब कि आपका जो ब्लड सरकुलेशन है वह ठीक से नहीं हो रहा है ,

शुक्रवार, 31 अगस्त 2018

How to improve our personality development #2 Hindi

How to improve our personality development #2 Hindi


personality development
How to improve your personality development



आज के personality development  के ब्लॉग में मेरा जो मेन पॉइंट है वह conversation हैं हम लोगों के साथ बातें कैसे करें कहां पर क्या बात करें वह सब कुछ बहुत मायने रखता है पर्सनालिटी डेवलपमेंट कि इस सीरीज के लिए , कभी-कभी हम अपने दोस्तों के साथ मिलकर जोक्स या क्या कुछ बातें करते हैं और सब लोग हंसते हैं लेकिन पीछे से हमारे पापा या फिर कोई बड़ा हमसे कहता है कि अब तो तुम बहुत बड़े हो गए अब अपने आप में मैच्योरिटी लाओ , इसलिए आज हम बात करेंगे कि किस जगह पर किस माहौल पर हमें क्या बातें करनी चाहिए ,

मैंने अपने पहले सेशन में भी कहा था और आज भी कह रहा हूं कि सबसे पहले आपको अपने आप को एकदम से रिलैक्स रखना है , अगर आप किसी के साथ बातचीत कर रहे हो और आप अपने दिमाग में ला रहे हो कि क्या मैं अच्छे से कम्युनिकेशन कर रहा हूं या नहीं कर रहा हूं तो यह बिल्कुल भी अच्छा नहीं है बातें बिल्कुल रिलैक्स होकर करो आपको सोचना नहीं कि आप क्या बात कर रहे हो , लेकिन बिना सोचे आप किस तरह से अच्छे कन्वर्सेशन कर सके उसका एक बहुत ही अच्छा उपाय मैं आज आपके लिए लाया हूं ,
        

conversation personality 


हर इंसान के पैटर्न हमारे दिमाग में होती है जैसे कि अगर कोई कॉमेडियन हमारे सामने सिर्फ आता है फिर भी हम हंसने लगते अभी तक उसनेे कुुुछ भी कन्वर्सेशन नहीं की है फिर भी हम जानते है की वह क्या करने वाला है तो मैंने अगर कुछ सैंपल से बाद में करो तो भी हमें हंसी आती है क्योंकि उसकी एक पैटर्न हमारे दिमाग में छप गई है , इसी प्रकार हमें भी लोगों के सामने अपनी पैटर्न अच्छी तरह से रखनी है इसीलिए हमें क्या करना चाहिए , सबसे पहले मैं आपको और आपको recommended  करूंगा कि आपको इंग्लिश थोड़ी आनी चाहिए क्योंकि आज के प्रोफेशनल जमाने में इंग्लिश कुछ ज्यादा ही यूज हो रही है ,

अब हमारा सवाल यह है कि हम किसी के साथ क्या बात करें जिसे सुनकर सामने वाले को अच्छा लगे तो सबसे पहले किसी के साथ बात करने के लिए उसका पैटर्न हमारे दिमाग में होना चाहिए जिससे हम उसके साथ बात एकदम से रिलैक्स होकर बात कर सके और उसके हिसाब से उसके साथ बात कर सके , अब  हम जिसे जानते नहीं हैं उसके सामने किस तरह से बात करे , लोगों को जानने के लिए आपको दो सब्जेक्ट पढ़ना पड़ेगा ,