गुरुवार, 10 जून 2021

Sunil chhetry motivational speech for student

Sunil chhetry motivational speech for student 

मुझे कल मेरा दोस्त पूछ रहा था की फुटबॉल दुनिया का नंबर 1 स्पोर्ट है फिर भी हम इंडियन फुटबॉल के किसी भी खेलाड़ी को नहीं जानते ऐसा क्यों.. क्या हमारे देश से कोई फुटबॉल नहीं खेलता, 

मैंने उससे कहा की फुटबॉल तो हमारे खेलाड़ी भी खेलते है लेकिन हमारे लोगों को रोनाल्डो और मैसी जैसे खेलाड़ी ही पसंद है इसलिए वो हमारी फुटबॉल टीम को नहीं जानते वरना हमारे पास सुनील छेत्री जैसे खेलाड़ी है जो दुनिया के दूसरे नंबर के सबसे ज्यादा इंटरनेशनल गोल करने वाले इंसान है, 

आज से कुछ साल पहले सुनील छेत्री ने एक वीडियो अपलोड किया था जिसमे उन्होंने ने भारत की जनता को हाथ जोड़कर यह निवेदन किया था की आप हमें सपोर्ट करने स्टेडियम में जरूर आए, आपको जितनी शिकायत इंडीयन फुटबॉल टीम से हे वह सब आप हमें सामने आकर बताये हमारी आलोचना करे लेकिन कम से कम हमें सपोर्ट करे, इसी महान खेलाड़ी की एक सबसे महत्वपूर्ण स्पीच है जिसमें एक बहुत अच्छी सीख है, 

Sunil chhetry motivational speech for student

सुनील छेत्री कहते है की 18 से 30 साल की उम्र ऐसी है जिसमे सब लोग हमें सलाह देने आते है काका, मामा, मौसा, फुफा, दूधवाला, गेटकीपर सब लोग हमें सलाह देते है, हर जगह सलाह सुनने मिलती है बेकार से बेकार इंसान भी सलाह देकर चला जता है, इन सब लोगो के साथ मैं यानि सुनील छेत्री भी आपको एक सलाह देना चाहता हु,

मेरी सलाह आपसे यही है की सुनो सबकी लेकिन करो आपके मन की क्योंकि हमारे निर्णय हमारे होंगे तभी हम कभी दुसरो को सलाह नहीं देंगे, हमें एक आदत अपने अंदर डालनी है की हम लोगों के सवाल के जवाब दे लेकिन कभी सलाह किसी को न दे, इसी तरह सब लोग बदल जाएंगे लेकिन शुरुआत आपसे होगी,

सुनील छेत्री ने कहा की अगर आपको कुछ ऐसा करना है जो आपके परिवार में कोई नहीं कर पाया तो आपको कुछ ऐसा करना पड़ेगा जो आपके परिवार में से किसी ने नहीं किया इसलिए आपका रास्ता अलग होना चाहिए और इसलिए कोई नहीं है जो आपको सलाह दे सकें, 

आप शिक्षा से अपनी सोच डेवेलोप करनी है और खुद रास्ता बनाना है और उन लोगो को सुनना है जिसने आपके सपने को पहले पूरा किया था, सुनील छेत्री ने अपनी पूरी स्पीच में सलाह नाम के टॉपिक का अच्छा वर्णन किया, 


बस यही है मेरी जिंदगी की आज की सीख...

0 comments:

Share your experience with me