रविवार, 16 मई 2021

Inspiring short stories with Moral in hindi

here i have a Inspiring short stories with Moral, The most interesting positive thinking story in hindi, Inspiring short stories on positive attitude in hindi

Inspiring short stories with Moral in Hindi

एक बार एक बहुत बड़ा नेता एक साधू के छोटे से आश्रम में गया, बात बहुत पुरानी है क्योंकि आज कल अच्छे साधू होते तो है लेकिन मिलते नहीं है, साधू बहुत तेजस्वी था वह लोगों के सारे सवालो के जवाब देता था, लोग अपने जीवन की कठनाईया लेकर उस साधू के पास जाते थे,

जब नेता साधू के आश्रम के अंदर गया तो उसने देखा की साधू किसी इंसान के साथ बात कर रहे थे, नेता ने अंदर जाते ही कहा की मुझे आपसे बात करती है, साधू ने सहजता से कहा की थोड़ी देर रुकिए पहले में इनके सवालों के जवाब दे दूँ, 

नेता को बहुत गुस्सा आया और उसने कहा की आप जानते नहीं में कौन हु, साधू ने कहा की मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता आप कौन है लेकिन अगर आप चाहते है की मैं आपके सवालो के जवाब दू तो आपको थोड़ी देर इंतजार करना पड़ेगा,

अब साधू के इस जवाब से नेता को बहुत गुस्सा आया और उसने साधू को चिल्लाकर कहा की अब मैं तुझे नहीं छोडूंगा मुझे पता है तू एक पांखडी है और लोगो को लूटता है तुम ये सब ढोंग सिर्फ पैसा कमाने के लिए करते हो, इतना सब कुछ सुनने के बाद भी साधू के चहेरे पर मुस्कुराहट थी क्योंकि साधू का मतलब ही यही है की हर परिस्थितियों में समान रहे, 

The most interesting positive thinking story in hindi


here i have a Inspiring short stories with Moral, The most interesting positive thinking story in hindi, Inspiring short stories on positive attitude in hindi
थोड़ी देर मौन रहने के बाद साधू ने नेता से हाथ जोड़कर कहा की मुझे आपसे कोई परिसानी नहीं है जो भी आपने कहा वो आपकी अपनी सोच थी और मेरी नज़र में आप एक बहुत भले इंसान है, अब इतना सुनने के बाद नेता खुश हो गया क्योंकि उसे जो सुनना था वह उसे मिल गया, नेता उछलते उछलते घर गया और अपने पिता को यह पूरी घटना बताई, 

पिता ने मुस्कुराते हुए कहा की साधू ने तुम्हारी तारीफ़ नहीं की क्योंकि उन्होंने वो नहीं कहा जो तुम हो उन्होंने वो कहा जो वो खुद है और तुमने भी साधू को वो नहीं कहा जो वो है तुमने भी वही कहा जो तुम खुद हो क्योंकि दुनिया हमें वैसी नहीं दिखती जैसी वो है दुनिया हमें वैसी दिखती है जैसे हम है,  

बस यही है मेरी जिंदगी की आज की सीख...

0 comments:

Share your experience with me