सोमवार, 15 मार्च 2021

What is gaming disorder in hindi

What is gaming disorder in hindi


What is gaming disorder in hindi

अभी कुछ दिन पहले मेरा एक दोस्त मुझसे पूछ रहा था कि मेरे साथ एक बार  फ्री फायर खेलोगे क्योंकि पब्जी तो बंद हो चुका है आपको भी पता लेकिन मैं उस पर ज्यादा बात नहीं करना चाहता हूं, 

उसने मुझसे पूछा कि चलो हम दोनों मिलकर फ्री फायर खेलते हैं, मैंने कहा कि तुम्हें क्या लगता है कि मैं फ्री फायर खेलता होगा, उसने कहा कि हा शायद, मैंने कहा कि मेरे पास सब कुछ है लेकिन इतना फालतू वक़्त नहीं है, उसने मुझसे कहा कि आपको क्या लगता है कि फ्री फायर खेलने वाले लोग फालतू होते है, मैंने कहा कि हां, 

उसने कहा कि तुम्हें पता है कि फ्री फायर से हजारों लोग पैसा कमा रहा है और गेम खेलने में क्या बुराई है सबकी अपनी अपनी पसंद होती है, मैंने उससे कहा कि 14 सितंबर 2018 को वर्ल्ड हैल्थ ऑर्गेनाज़शन ने अपनी बीमारी की सूची में गेमिंग को भी रखा था और लिखा था की गेमिंग एक बीमारी है, वह मुझे कहने लगा कि शायद वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन को कोई गलतफहमी हो गई होगी क्योंकि वह भी तो हमारी तरह इंसान ही है, 

मैंने उससे कहा कि वह लोग बहुत सारे रिसर्च के बाद किसी रोग को आईडेंटिफाइड करते हैं और उसे लोगों के सामने रखते हैं,  यह डिस्कशन तो बहुत देर चली थी लेकिन मैं इस पर बात करने नहीं आया हूं मुझे गेमिंग डिसऑर्डर के बारे में थोड़ी बहुत बातें करनी है,

आज की तारीख में सबसे बड़ा एडिक्शन सबको पता है कि यह स्मार्टफोन है लेकिन देखा जाए तो स्मार्टफोन कोई एडिक्शन नहीं है एडिक्शन वह सारी क्रियाएं है जो हम स्मार्ट फोन पर करते हैं अगर हम स्मार्टफोन का इस्तेमाल अच्छी चीजों के लिए करते हैं तो कोई प्रॉब्लम नहीं है लेकिन अगर हम इसका इस्तेमाल गेमिंग जैसी चीजों के लिए करते हैं तो इसका बहुत बुरा प्रभाव हमारी जिंदगी में पड़ता है। 

मेरे फैमिली का एक लड़का था उसका दिमाग अचानक खराब हो गया उसे बड़े-बड़े स्ट्रोक आने लगे, वह 24 अवर्स गेम खेलता था अब आप में से बहुत सारे लोग सोचेगे की इतना घंटा कोई कैसे खेल सकता है क्योंकि कभी ना कभी तो वह सोता ही होगा लेकिन जब भी वह सोता था तो उसमें भी वह गुनगुनाता रहता था मतलब उसके परिवार आ रहे हैं उससे परेशान हो गए थे,

जब उन लोगों को पता चला कि यह सब कुछ गेम की वजह से हो रहा है तब डॉक्टर ने उससे कहा कि आपको इसे मोबाइल से बिल्कुल दूर रखना पड़ेगा लेकिन कुछ लोग कुछ महान आत्मा ऐसी भी थी जो उनके घर पर आते थे और कहते थे कि गेम तो मेरा बेटा भी खेलता है उसे तो कुछ नहीं हुआ, गेम तो आज पूरी दुनिया खेलता है उनको तो कभी कुछ नहीं होता, 

ये डॉक्टर सब गलत बोलते हैं गेम से कुछ नहीं होता तो मैंने उससे कहा कि दुनिया में शराब और सिगरेट करोड़ों लोग पीते हैं लेकिन उनमें से कैंसर सिर्फ 1% को होता है तो इसका मतलब यह थोड़ी ना है कि हम शराब और सिगरेट पीना शुरू कर दे, बस यही बात गेमिंग में लागु होती है,

गेमिंग से कितनी बीमारियां होती है वह तो आपको माइंड हॉस्पिटल में जाकर ही पता चलेगा, मैंने हमारे गुजरात की जामनगर की हॉस्पिटल देखी है और बहुत कुछ सीखने मिला, 

Benefits of gaming 

देखिए गेमिंग तब तक अच्छी है जब तक हम उसे दिन में कम से कम आधे से एक घंटे तक खेलते हैं क्योंकि बहुत सारी यह स्टडी अभी हुई है कि अगर हम दिन में कुछ देर अगर गेम खेलते हैं तो हमारा डिसीजन मेकिंग और हमारा कंसंट्रेशन बढ़ता है लेकिन प्रॉब्लम यह है कि आजकल की गेमिंग में ऐसे एल्गोरिदम आ गए हैं जिसकी वजह से इंसान गेम शुरू तो अपनी मर्जी से करता है लेकिन बंद उस गेम की मर्जी से करता है और यही गेम की सबसे बुराई है,

मेरी नजर में अगर आपको एकाग्रता और डिसीजन मेकिंग पावर बढ़ाना है तो कुछ और कर लीजिए इसके लिए गेम खेलने की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन एक और बात भी है की अगर आप दिन में 1 या 2 घंटा योगा और कसरत करते हो तो आप जितना जाहे उतना गेम खेलों,

अभी बहुत सारे लोगों का यह सवाल होगा कि उसमें जो लोग कमाते हैं उसका क्या क्योंकि उसकी तो रोजी-रोटी चली जाएगी। उन लोगों के लिए मै इतना बताना चाहता हूं कि अगर आप गेमिंग खेलकर अगर करोड़ों रुपए कमा लेते हैं और आपका दिमाग ही काम नहीं कर रहा है तो उस पैसों का क्या करोगे। 

एक बात शायद आपको भी पता है और मुझे भी पता है लेकिन फिर भी मैं यहां पर लिखना चाहता हूं कि आपकी बॉडी में से गर्दन के नीचे का अगर कोई भी पार्ट बिगड़ गया तो वह रिपेयर हो सकता है लेकिन अगर गर्दन के ऊपर के पार्ट को कुछ भी हुआ तो आप दुनिया के 90% काम नहीं कर सकते, 

उस में से सबसे अगर इंपोर्टेंट है तो वो है हमारा दिमाग क्योंकि दिमाग से ही सब कुछ होता है और अगर हम अपने दिमाग के लिए अगर इतना नहीं कर सकते तो मुझे नहीं लगता कि हम अपनी जिंदगी में कुछ भी कर सकते हैं।

बहुत सारे लोग ऐसे भी होंगे अभी सोच रहे होगे कि हम तो बहुत वक्त से गेम खेल रहे हैं लेकिन हमें तो कुछ नहीं हुआ है लेकिन मैं बस उन लोगों को इतना कहना चाहता हूं कि यह आपकी सिर्फ गलतफहमी है आप ऑलरेडी इसके काबू  में आ चुके हैं अगर आपको भरोसा नहीं है तो कम से कम 7 दिन के लिए गेम को छोड़ कर देख लीजिए।

सबसे ज्यादा अगर कोई कीमती है तो वह है वक्त और वक्त के पास इतना वक्त नहीं कि वह वापस से आपको वही वक़्त दे सके इसलिए कम से कम अपने वक्त को ऐसी चीजों में नहीं बिताना चाहिए। 

बस यही है मेरी जिंदगी की आज की सीख...

0 comments:

Share your experience with me