गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

बडे लोगो का आदर करे | Respect ours elder

बडे लोगो का आदर करे | Respect ours elder 

एक लड़का और एक लड़की थी दोनों एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे लेकिन लड़की का बाप शादी के लिए मना कर रहा था लेकिन बहुत मनाने के बाद लड़की के बाप ने कहा कि अगर शादी करना चाहते हो तो मेरी एक शर्त है और शर्त यह है कि शादी में कोई भी बुजुर्ग इंसान नहीं आएगा। 

लड़के ने कहा ठीक है हम आपकी बात से सहमत है और जब बारात लेकर आएंगे तो उस बारात में कोई भी बुजुर्ग इंसान नहीं होगा। कुछ दिन बाद बारात का समय आया, लड़के वाले बारात लेकर निकलने लगे और सब को यह सूचना दी गई थी कि कोई भी बुजुर्ग इंसान बारात में हमारे साथ नहीं आ सकता लेकिन लड़के का नाना मानने को तैयार नही था।

नाना इस बात को नहीं माना और कहने लगा कि मुझे कैसे भी करके बारात में आना है तुम कुछ भी करके मुझे कहीं पर भी बिठा कर बारात में ले जाओ। लड़के ने सामान के साथ नाना को भी डाल दिया। 

बडे लोगो का आदर करे | Respect ours elder people

जब बारात वहां पर पहुंची तो लड़की के पापा ने एक और डिमांड रखी... कहा कि अगर हमारी नदी में से तुम पानी निकाल कर वहां पर दूध की नदियां बहा दो तो मैं तुमसे शादी करने के लिए तैयार हूं मतलब मैं अपनी लड़की की शादी तुमसे करवाने के लिए तैयार हूं।

लड़के ने कहा अब यह तो नहीं हो सकता इसलिए अब तो शादी कर ही नहीं सकते। जब बारात वापस अपने घर जा रही थी तब सब ने सोचा कि अब नाना को सामान के डिब्बे में रखने की क्या जरूरत है उसको बाहर निकाल कर सब कुछ बता देते हैं जब नाना को बाहर निकाला गया और यह सारी बातें बताई गई।

तब नाना ने कहा इसमें कौन सी बड़ी बात है एक काम करो लड़की के पापा से कहो कि हमने दूध का इंतजाम कर लिया है आप बस नदी में से पानी निकाल दो। यह सुनने के बाद लड़के वालों में से एक इंसान लड़की के बाप के पास गया और यह सारी बात बताई। तब लड़की के बाप ने कहा पक्का इस बारात में कोई बुजुर्ग इंसान आया है।

कहानी तो यहां पर पूरी हो जाती है लेकिन बहुत कुछ सीखा कर जाती है। बुजुर्ग इंसान के पास एक ऐसी चीज़ होती है जो सब के पास नही होती है और वह है experience...  जितना अनुभव उनके पास होता है उतना तो हमारे पास नही हो सकता है। 

फिर भी जरूरी नही है कि बुर्जुग इंसान की सारी बाते सच हो लेकिन उनकी बात सुनना एक अच्छी आदत है जो आज मैंने सीखी है और इस आदत को अपनाने की पूरी कोशिश करूंगा। क्योंकि कही ना कही तो सब गलतियां कर बैठते है और इसमें कोई बड़ी बात नही है।

आज 31th दिसंबर है 2020 जैसे घातक साल का अंतिम दिन और कल से हर इंसान कुछ न कुछ संकल्प लेता है बस उन्ही संकल्पों में से मेरा ये एक संकल्प रहेगा। 

मेरी जिंदगी की आज की सिख....

0 comments:

Share your experience with me