रविवार, 30 अगस्त 2020

दिमाग पर पैसे खर्च करो | mind power secrets in Hindi

Today I will share with you Mind power secrets, some Secret power of human mind and Power of mind in Hindi. 

दिमाग पर पैसे खर्च करो | mind power secrets in Hindi 


आज में तारक मेहता का उल्टा चश्मा देख रहा था। उसमें मैंने एक एपिसोड देखा जिस में एक बहुत अच्छी सीख थी। मैं हमेशा कहता हूं कि टीवी देखना अच्छी बात नहीं है इसीलिए मैं हमेशा यूट्यूब पर देखता हूं। मैं मनोरंजन के लिए कुछ ही शो देखता हूं उनमें से तारक मेहता का उल्टा चश्मा एक है।

मैं हमेशा वही चीज़े देखना पसंद करता हूं जिसे मैं अपने परिवार के साथ भी देख सकूं और तारक मेहता का उल्टा चश्मा उन शो में से है जिसे आप परिवार के साथ भी देख सकते हैं। बचपन से मैं देखता आया हु क्योंकि आज तक मैंने इसमें एक भी नेगेटिव बात नही सीखी।

Secret power of human mind in Hindi

दिमाग पर पैसे खर्च करो | mind power secrets in Hindi

मैं आज जिस एपिसोड की बात करने वाला हु वह एपिसोड 1080 वा है। इस एपिसोड के लास्ट में एक बहुत बड़ी सीख है। वैसे मेरी नज़र में तारक मेहता के हर एपिसोड में सीख होती है लेकिन इस सीख पर मेरा खुदका अनुभव जुड़ा हुआ है इसलिए इसको समझना मेरे लिए आसान है।

इस एपिसोड में होता कुछ इस प्रकार है कि कुछ देर तक घुटनों के बल बैठने के कारण जेठालाल के पैरों में दर्द होने लगता है लेकिन दया के पास उस वक़्त कोई भी दवाई नहीं होती है लेकिन दया कमरे के अंदर जाकर एक चॉकलेट का टुकड़ा लाकर जेठालाल को देती है और कहती है कि ये दवा खा लीजिए आपका दर्द खत्म हो जाएगा।

जेठालाल चॉकलेट के टुकड़े को दवा समझकर खा लेता है और थोड़ी देर बाद वो कहता है कि मेरा यह दर्द कम हो रहा है इसके बाद क्या हुआ वह खुद देख लेना।

Power of mind in Hindi.


अब मैं आपको एक बहुत बड़ी सच्चाई बताने वाला हूं जो मैंने 12 साइंस मे अपने स्कूल में सीखी थी। किसी भी बीमारी को दूर करने के लिए दवाएं सिर्फ 10% काम करती हैं बाकी सारा काम हमारा दिमाग करता है। एक उदाहरण के साथ समझते है।

जब इंसान सोचता है कि उसे फीवर है और जब वह डॉक्टर के पास जाने के लिए घर से निकलता है तो उसके दिमाग में यही चलता रहता है कि उसको फीवर है इसीलिए वह अंदर ही अंदर कमजोर महसूस करता है और वही कमजोरी उसके चहेरे में भी दिखती है।  

जैसे ही वह डॉक्टर के पास जाता है और डॉक्टर उसे कुछ दवाई देते है और उसको एक बहुत अच्छा वाक्य कहते हैं जिसकी वजह से उनका 90% इलाज तभी ही हो जाता है। डॉक्टर उसे कहते हैं कि इस दवा को खाने के बाद तुम ठीक हो जाओगे।

जब इंसान अस्पताल से घर की तरफ आ रहा होता है तब उसके दिमाग में चलता रहता है कि अब मैं ठीक हो जाऊंगा और उसी वक्त से वह रिकवर होना शुरू हो जाता है।

इसके पीछे का कारण यह है कि जैसा हम सोचेंगे वैसा हम बन जाएंगे और इसीलिए कहा जाता है कि अगर आप दिमाग से स्ट्रांग है तो कोई भी बीमारी ज्यादा दिन तक नहीं टिक सकती।

हमारे शरीर में दिमाग ही सब कुछ है। कुछ इन्वेस्ट करना चाहते हो तो दिमाग पर इन्वेस्ट करो क्योंकि दिमाग में किया हुआ इन्वेस्टमेंट कभी डूबता नहीं है और इसमें जो इंटरेस्ट मिलता है उसका मूल्य नही है।

बस यही है मेरी जिंदगी की आज की सीख...

0 comments:

Share your experience with me