Search here

शुक्रवार, 1 नवंबर 2019

सफर खूबसूरत है मंजिल से भी motivational thought


सफर खूबसूरत है मंजिल से भी motivational thought


सफर खूबसूरत है मंजिल से भी, यह एक  गाने की पंक्ति है but एक छोटी सी लाइन बहुत कुछ कह जाती है इस लाइन में इतनी ताकत है कि इस पर बहुत सारी books लिखी जा सकती है but मुझे और आपको कोई किताब नहीं लिखनी है हमें तो बस इस लाइन को समझना है जितना हम और आप समझ सकते हैं, 

यह पंक्ति तो मैंने बहुत पहले सुनी थी but समझ में आज आई इसलिए लिख आज रहा हु अपने लिए, वैसे भी इंसान वक्त के साथ सीखता है और ऐसा इसलिए होता है because हमारे आस पास कोई भी समझाने वाला नहीं होता है, 

सबसे पहले यह जान लेते हैं कि मंजिल कहते किसे है, मंजिल वह है दोस्तों जो हमें सोने नहीं देती और अगर हमें नींद आ भी जाए तो हमें सुबह उठने की वजह देती है मंजिल वह है जो हमें पूरा दिन जोश के साथ मेहनत करवाती है, मंजिल वह है जिसको पाने के लिए इंसान जिंदगी भर संघर्ष करता ही जाता है, 


मैंने एक IPS लड़की का इंटरव्यू देखा था उसमें उसने कहा था कि मंजिल पर पहुंचने से ज्यादा मजा तो तब आता है जब हम उस मंजिल को पाने का सफर तय कर रहे होते हैं,

उस दौरान हम पर न्यूज़ पेपर से क्लासिस से अपने दोस्तों से हर जगह से knowledge की बरसात होती है but हमें उस वक्त मंजिल की चाहत रहती है but जब मंजिल मिल जाती है तो हम उस सफर को याद करते हैं जैसे आज हम सब लोग अपने बचपन को याद करते हैं कोई भी ऐसा नहीं होगा जो वापस अपने बचपन में नहीं जाना चाहता है,

लोग अक्सर बड़ी बड़ी मंजिल को पाने के लिए अपने सफर को खुशी से नहीं जी पाते, इसलिए यह बात तो बिल्कुल सच है कि सफर खूबसूरत है मंजिल से भी,

सच कहूं तो सफर खूबसूरत होना भी चाहिए because जिंदगी का सफर बहुत बड़ा होता है और मंजिल बहुत ही छोटी होती है इसलिए मंजिल से ज़्यादा अहमियत सफर को देनी चाहिए और खुशी भी सफर में मिलनी चाहिए because जो इंसान अपने सफर को खुशी से नहीं जीता वह कभी मंजिल तक पहुंच नहीं सकता, 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Share your experience with me