Search here

सोमवार, 2 सितंबर 2019

भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi

भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi

आज मुझे उस सवाल का जवाब मिला जिस सवाल का जवाब करोड़ों लोग ढूंढ रहे हैं, न जाने कितनी बार मैंने यह सवाल पूछते हुए लोगों को देखा है और कहीं ना कहीं मेरे दिमाग में भी यही सवाल घूमता रहता था, मैं भी उन लोगों में था जो अक्सर लोगों से सवाल पूछा करता था कि भगवान होता है या नहीं अगर होता है तो किसने देखा, हमारी जो महान ग्रंथभगवत गीता, रामायण ग्रंथ यह सब किसने लिखे किसने ढूंढे क्या इसमें लिखी हुई बात सच है, 

ऐसे तो न जाने कितने सवाल हर इंसान के मन में होते हैं और शायद इसीलिए मेरे मन में भी कभी ना कभी यह सवाल आते रहते थे but सवाल थे इसलिए जवाब को ढूंढना जरूरी था और मुझे सवालों के जवाब ढूंढना कितना पसंद है वह तो आप पिछले 1 साल से जानते ही है,

भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi

भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi
भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi

इस सवाल को ढूंढने के लिए मैंने न जाने कितनी बातें कितने वीडियोस और कितने अर्टिकल्स पढ़े है but मुझे कभी भी उनमें संतोष नहीं हुआ because मेरा मानना है कि कोई भी जानकारी complite नहीं होती, 

हम सब सोचते है कि जैसा हम सोच रहे हैं वह सब सच है but दुनिया की कोई भी जानकारी complite नहीं होती और शायद इसीलिए मुझे कभी भी किसी की भी बात सच नहीं लगी और न ही जुठ लगी, but आज किसी तरह से मुझे जवाब मिल गया लेकिन जवाब देने से पहले मैं कुछ सवाल आप लोगों से पूछना चाहता हूं because यही सवाल आपको भी जवाब देंगे कि भगवान होते हैं या नहीं,

आप सब ने cricket खेला होगा अगर खेला नहीं है तो देखा तो जरूर होगा, क्या cricket खेलते या देखते वक्त कभी आपके दिमाग में यह सवाल उठा कि क्रिकेट में 3 स्टंप ही क्यों होता है,  क्या आपने कभी अपने कैप्टन को या फिर अंपायर से यह सवाल पूछा है की cricket में 3 स्टंप पर क्यों होते हैं,

मैं जानता हूं कि कभी आपने यह सवाल पूछा नहीं होगा और पूछना भी मत because आपको भी पता है और मुझे भी पता है ऐसे सवाल पूछने से मैदान में क्या हालत होती है चलिए यह सब तो ठीक है but सवाल यह है कि भगवान होते हैं या नही,

अगर जिंदगी में किसी भी क्षेत्र में कार्य करना हो और उसका आनंद लेना हो तो कभी भी सिद्धांत पर सवाल मत उठाना, मतलब कि कभी भी अपने fundamental पर सवाल नहीं करना, हमेशा उसे स्वीकार लेना,गर कभी भी आप सिद्धांत (fundamental) पर सोचने लगे तो समझ लीजिए कि आप अपना वक्त बर्बाद कर रहे हैं, 

सोचिए कि आप एक स्टॉल पर आइसक्रीम खरीदने गए और आपने वहां पर सवाल किया कि यह आइसक्रीम किसके दूध से बनी हुई है इसमें क्या क्या डाला हुआ है यह किस कंपनी में बनी है इसे बनाने वाला कौन है इसका आविष्कार किसने किया था तो क्या आप उस आइसक्रीम का मजा ले पाएंगे, 

दूसरी बात यह है कि हमारे जो महान ग्रंथ है उसको किसने लिखा था उसमें लिखित बात सच है या नहीं इस पर सोचने से अच्छा आप उसके रास्ते पर चलना शुरू कर दीजिए, आपको अपने आप पता चल जाएगा कि वह सारी बातें सच है या झूठ, सब मिलाकर एक ही बात कहना चाहता हूं कि कभी भी सिद्धांत (fundamental) के ऊपर सवाल नहीं उठने चाहिए,

अब शायद आपको यह जवाब मिल गया होगा कि भगवान होते हैं या नहीं, अगर नहीं मिला है तो कोई बात नहीं मुझे तो मिल गया, आप चाहे तो इस video को देख सकते है जहाँ से मुझे इस बात का ज्ञान हुआ है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Share your experience with me