Search here

शुक्रवार, 8 फ़रवरी 2019

बूढ़े मां-बाप और लकड़ी का कटोरा Short motivational story

Motivational story : one of the best motivational story for all son , this motivational story about the old parents ,

बूढ़े मां-बाप और लकड़ी का कटोरा Short motivational story 

बूढ़े मां-बाप और लकड़ी का कटोरा Short motivational story
बूढ़े मां-बाप और लकड़ी का कटोरा Short motivational story 


आंगन में लगा वृक्ष बूढ़ा भी हो ,


कोई उसे काटता नहीं है ,


क्योंकि वह फल बेशक न देता हो ,


लेकिन छाव तो हमेशा देता है 

अंदाजीत सब family में आज एक सिस्टम चल रहा है , पैरेंट्स बच्चों को बड़ा करते है उसकी शादी करवा कर उसको खुद पर depend होना सिखाते है जब वह खुद पर depend हो जाता है तब पैरेंट्स अपने रास्ते और बच्चे अपने रास्ते , 

लेकिन क्या करे दोस्तों , दो मौड़ जिंदगी में ऐसे होते है जहां पर हर किसी को किसी पर depend होना पड़ता है और वहाँ पर दूसरा या तीसरा ऑप्शन भी नही होता है और वह मौड़ है childhood और Old age , 

सब पैरेंट्स अपने बच्चों का सहारा बनते है लेकिन पता नही क्यों सब बच्चे अपने पैरेंट्स का सहारा क्यों नही बनते , कभी कभी सोंचता हु की कही इसमे भी हमारे यूनिवर्सल साइंस का कोई साइंटिफिक फार्मूला तो नही है , अच्छा होता लेकिन अभी में आपके साथ एक कहानी शेयर करने आया हु फ़िलाल उसकी बात करते है  ,

Motivational Short story


यही situation थी इसी प्रकार एक parents old हो गए थे जो चाहते थे कि उनका बड़ा बेटा जो दूर कहीं रहता था वह उसको सहारा दे क्योंकि वह अब खुद पर depend नहीं हो सकते थे वह बहुत ही Weak हो गए थे , और mostly parents अपने बच्चों को तब तक कष्ट नहीं देते जब तक वह खुद अपनी देखभाल ना कर सके ,

जब वह दोनों अपने बेटे के घर उसके साथ रहने जाते हैं तब उसको बहुत सारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है और सबसे ज्यादा परेशानी उसे खाने के टेबल पर होती है क्योंकि बहुत ही weak थे जिसके कारण वह ठीक से खाना नही खा पाते थे और उसकी यही आदत से उसके बेटे और बहू को चिढ़ होती थी , 

Some times उनके हाथ से juice का glass फिसल जाता तो कभी-कभी उनके मुंह से चावल के दाने गिर जाते , इसलिए बहू और बेटे ने कुछ दिन यह सब कुछ face किया उसके बाद उन दोनों का खाना उसके room में एक लकड़ी के कटोरे में भेजना शुरू कर दिया ,

जब एक parents अपने एक या 2 साल के बच्चे को खाना खिला रहे होते हैं तब उस बच्चे का मुंह पूरा भरा हुआ होता है उनकी चारों ओर खाना गिरा हुआ होता है लेकिन फिर भी parents को उसकी इस hebbit पर गुस्सा नहीं आता बल्कि उसे खुशी होती है लेकिन वही समय बदलता है जब बच्चों का वक़्त आता है अपने parents को खाना खिलाने का तब पता नहीं क्यों बच्चों को ऐसे कदम उठाने पड़ते हैं ,

उस couple का एक 10 साल का बेटा था जो अपने घर मे हो रही इन बातों को नोटिस करता और अपनी बिरादरी वाला काम करता यानी कि बच्चों की जो hebbit है कुछ सीखने की वही सीखने का प्रयास करता , और फिर suddenly उसने ऐसा सीख लिया जो वाकई Compliment के काबिल था , 

एक सुबह school जाने से पहले उस बच्चे ने अपना piggy bank तौड़ दिया , उसकी माँ ने पूछा कि क्यों तौड़ा तुमने , तब बच्चे ने कहा कि मुझे आप दोनों के लिए एक very सपेशल gift लेना है mother Happy

शाम को उस दंपती का son वापस आया तो माँ ने देखा कि उनके left हाथ मे वाकई अनमोल तोहफ़ा था उसका यह gift देखकर पिता ने पूछा कि बेटा यह क्या लेकर आये हो तब बेटे ने कहा कि जब आप दोनों भी Old age चले जाएगी तब में आपको इसी लकड़ी के कटोरे में खाना दूँगा , 

Now what happened next is not known but we know that we have to stay away from this wooden bowl, then we have to remember this story , 

I always remember this क्यों कि मैंने बड़ी महेनत करके यह ब्लॉग without copyright  के आप तक पहोचाने में और गूगल में पूरी जिंदगी index रखने के लिए शब्दों के साथ बड़ा खिलवाड़ किया है , और आगे की some lines english में भी इसी लिए लिखी है , वरना सच friends मुझे कोई शोख नही है english लिखकर अपनी बेइज्जती करवाने का , 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Share your experience with me