Search here

रविवार, 10 फ़रवरी 2019

सब कुछ छोड़ जाने को ~ poetry in hindi


सब कुछ छोड़ जाने को ~ poetry in hindi 

सब कुछ छोड़ जाने को ~ poetry in hindi
सब कुछ छोड़ जाने को ~ poetry in hindi 

पता नहीं क्यों दिल कहता है

रिश्ते नाते सब से तोड़ जाने को
सुने हुए सारे कड़वे लब्ज भूल कर ,
एक नई उम्मीद के साथ दिल कहता है
सब कुछ छोड़ जाने को ,

एहसास नहीं है इस रास्ते का अंजाम
फिर भी आज दिल कहता है ,
सब कुछ छोड़ जाने को ,


Poetry for Bitterness


सचमुच गिला नहीं है मुझे अपनों से ,
गिला है मुझे गैरों की आदतों से ,
उनकी दिल जलाने वाली बातों को
सुनकर दिल बार बार कहता है

ऐसा नहीं है कि मैं कोशिश नहीं करता
आदतों में ढलने के लिए , फिर भी
एक वक्त के बाद दिल फिर कहता है
सब कुछ छोड़ जाने को ,

जानता हूं इन बातों से शिकवा नहीं करते
मगर काश यह बात दिल भी जान लेता
तब शायद दिल नहीं कहता
सब कुछ छोड़ जाने को ,


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Share your experience with me