यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 12 फ़रवरी 2019

लोग वही समझते हैं जो वो समझना चाहते हैं Mysterious truth of earth


लोग वही समझते हैं जो वो समझना चाहते हैं Mysterious truth of earth

ग वही समझते हैं जो वो समझना चाहते हैं Mysterious truth of earth
Mysterious truth of earth

आज मैं poetry पढ़ रहा था उस poetry की चार लाइन बहुत ही सुंदर थी , उस चार लाइन में मुझे बहुत कुछ सीखने मिला , जब मैंने वह poetry पढ़कर नीचे comments box को देखा तो मैंने वहां पर कुछ ऐसा पढ़ा की मैं सोचता रह गया और शायद आप भी सोचते रह जायेगे , 

सबसे पहले मैं आपको वह four beautiful lines बताता हूं और उससे मुझे क्या सीखने मिला है वह बताता हूं , उसके बाद हम उस महान व्यक्ति की बात करेंगे जिस ने comments box में कुछ ऐसा लिखा जिसे पढ़कर में अभी तक हंस रहा हु और न जाने कब तक मेरी हंसी यूं ही बरकरार रहेगी , 


Mysterious truth of earth about people

जो poetry में पढ़ रहा था वह poetry लिखने वाले ने सबसे पहले मेंशन किया था कि वह पोएट्री का रियल ऑथर शैलेश लोढ़ा है जो तारक मेहता के नाम से पहचाने जाते हैं सबसे पहले मैं आपको वह four line बताता हूं जो मैंने वहां पर पढ़ी थी वह लाइन्स कुछ इस प्रकार थी कि , 


मैंने एक Parrot पाला कुछ days बाद वह उड़ गया ,
मैंने एक Bird पाली वह भी कुछ दिन बाद उड़ गए ,
उसके बाद मैंने एक वृक्ष बोया ,
Parrot भी वापस आ गया और Bird भी वापस आ गए ,

इस line से मुझे इतना सीखने मिला कि मुझे किसी भी बात की जड़ तक जाना चाहिए तभी मुझे सही answer मिलता है और मेरा हर काम success के साथ होता है वरना में भी विफ़ल होता रहुगा , और भी unique मुझे इसमें से  सीखने मिल सकता है लेकिन I have not tried

आप चाहे तो try कर सकते है और जो आप learn करते है वह मुझे भी जरूर बताना beacaub में भी सीखने का शौकीन हु , अब में आपको वह अनमोल line लिखकर सुनाता हु तो वह चंद line  कुछ इस तरह की थी गौर फरमाएगा दोस्तों ,


मैं बीकानेरी भुजिया लाया मेरा दोस्त रवि ले गया ,
मैं मंचूरियन राइस लेकर आया मेरा दोस्त जिग्नेश ले गया ,
उसके बाद में बोतल लेकर आया ,
रवि भी वापस आ गया और जिग्नेश भी वापस आ गया , 

इसी लिए दोस्तो मैंने अपने इस ब्लॉग का title रखा लोग वही समझते हैं जो वो समझना चाहते हैं , वैसे मेरा यह blog थोड़ा सा joks types था लेकिन फिर भी आपको कुछ learn करने जरूर मिला होगा ऐसी आशा के साथ फिर मिलते है एक नए blog के साथ , 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें