Search here

सोमवार, 24 दिसंबर 2018

Importance of woman in man's life ! जानिए स्त्री के महत्वपूर्ण रूप ?

Importance of woman in man's life : today I was tell about the important of women in all man's life And very important about 20 forms of woman

Importance of woman in man's life

Importance of woman in man's life ! जानिए स्त्री के कितने रूप है


हेल्लो दोस्तो आशा करता हु आप सब बढ़िया नही होगी बल्कि बहुत बढ़िया होंगे , आज बहुत दिनों बाद हम और बाते करेगे क्यों कि पिछले 2 month से में सिर्फ मोटिवेशनल स्टोरी ही लिख रहा था लेकिन आज स्टोरी नही लेकिन एक टॉपिक के ऊपर हम और आप बाते करेगे , 

आज मैंने एक बहुत ही बढ़िया आर्टिकल पढ़ा जिसमे स्त्री के 20 रूप लिखे थे सिर्फ लिखे थे पूरा विस्तार से नही था उसी 20 रूप का विस्तार अभ्यास करने के बाद जो मैंने सीखा वह आपसे शेयर करने के लिए आज मैं आपके पास आया हु अब ज्यादा बोर किए बिना बात करते है Importance of woman in man's life

Woman के 22 महत्वपूर्ण रूप 


आप चाहे कितने ही बड़े नास्तिक क्यों न हो फिर भी आपने मंदिर के कभी न कभी दर्शन किए ही होंगे और जो आस्तिक है उसने तो जाने कितनी बार मंदिर के दर्शन किए होंगे , मंदिर में आप देखते होंगे कि भगवान कृष्ण के साथ ★★★ राधा या ★★★रुक्मणी होगी , राम के साथ★★★ सीता और शंकर के साथ ★★★ पार्वती , यहां राम और शंकर के आगे भगवान नही लिखा है इसका मतलब यह नही है कि वह मेरे चाचा है , 

हर परुष को स्त्री की आवश्यकता है चाहे वह भगवान ही क्यों न हो और हम तो भगवान भी नही है फिर सोचिये हमे स्त्री की कितनी आवश्कता है जिसका आपको एहेसास भी नही होगा लेकिन आज हो जायेगा ,

पहला और दूसरा रूप 

हर स्टूडेंट को पढ़ाई करते हुए विद्या की आवश्यकता है और इस विद्या की प्राप्ति के लिये हम ★★★ लक्ष्मी मा की सेवा करते है अब यहां पर विद्या भी स्त्री का रूप है और★★★ लक्ष्मी भी मतलब 1 विद्या 2 लक्ष्मी

तीसरा रूप 

पढ़ाई करते करते हर इंसान को शांति की आवश्यकता होती है और★★★ शांति भी एक स्त्री का रूप है क्यों कि हम शांति नाम स्त्री के रखते है पुरुषों के नही सायद ही कही किसी पुरूष का नाम शांति होगा मतलब 3 शांति ,

चौथा और पाचवा रूप 

रोज सुबह उषा के साथ आरंभ होती है और★★★ संध्या के साथ समाप्त होती है और सायद आपने गौर किया होगा कि उषा और ★★★ संध्या भी एक स्त्री का रूप है ,में यहां पर दिया और बाती हम वाली संध्या की बात नही कर रहा हु संध्या यानी सूर्यास्त का क्षण मतलब 4 उषा 5 संध्या

छ से दस तक के रूप 

पूरा दिन काम करते वक़्त हम रात को अन्नपूर्णा की आशा होती है और ★★★ निशा को निदिया रानी और सोने के बाद भी सपना की आवश्कता , इसमे देखो 6 , अन्नपूर्णा 7 आशा 8 निशा 9 निदिया रानी 10 सपना ,

ग्यारवा से सोलह रूप 

घर मे जब भक्ति करते है तब गायत्री का मंत्रोच्चार करते है अगर कोई ग्रंथ भी पढ़ते है तो वह भी गीता , जब मंदिर में जाते है तब भगवान के सामने हम क्या करते है ★★★ पूजा और आरती और वह भी किसके साथ ★★★श्रद्धा के साथ और अगर अंधेरा हो तब भी हमे ज्योति की आवश्यकता होती है , 11 गायत्री 12 गीता 13 पूजा 14 आरती 15 श्रद्धा 16 ज्योति ,

यहां पर कुछ लोग सोचेगे की अंधेरे में हमे★★★ दीपक की आवश्यक होती होती है लेकिन दोस्त हम यहां पर स्त्री के रूप के बारेमे बात कर रहे है इसलिए हम पुरूष के रूप को अभी के लिए इंगनोर करते है , 

सतरह से बाइस रूप 

जब हम अकेलापन महसूस करते है तब प्रेमवती और ★★★ स्नेहा , जब किसीके साथ युद्ध करने जाते है तब हमें आशा होती है जया और ★★★ विजया की , किसी निर्बल इंसान को देखकर करुणा और वह भी★★★ ममता के साथ , 17 प्रेमवती 18 स्नेहा 19 जया 20 विजया 21 करुणा 22 ममता , 


Importance of woman in man's life ! जानिए स्त्री के कितने रूप है
Woman के 22 महत्वपूर्ण रूप 



दोस्तो यही है वह 22 रूप , इसमे से एक नाम जिसे में रोज ब्लॉग के एंड में यूज़ करता हु आशा करता हु आपको यह ब्लॉग पसंद आया होगा इसीके के साथ मिलते है अब एक कहानी के साथ तब तक के लिए bye and take care , 







कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Share your experience with me