बुधवार, 14 नवंबर 2018

Short inspiring story about the disabled person in Hindi

Inspiring story : This story is about a disable person girl whose name was giliyan lini , this story is one of the best inspiring and motivational story , inspirational short stories about life



Short inspiring story about disable person
Short inspiring story about the disabled person


Short inspiring story

एक लड़की थी जिससे स्कूल के सारे टीचर्स बहुत ही परेशान थे , वह लड़की हर 5 मिनट में खड़ी होकर क्लास रूम के चक्कर लगाकर वापस फिर बैठ जाती थी , उसे चाहे कितनी भी बड़ी पनिशमेंट क्यों दी जाये फिर भी वह अपनी आदत छोड़ती नहीं थी , उसकी यह आदत से सब लोग बहुत हैरान हो चुके थे ,

सब लोग सोचने लगे कि आखिर यह लड़की ऐसा करती क्यों है क्या यह हमें परेशान करना चाहती है या फिर कुछ और है , बहुत सारी पनिशमेंट और बहुत मेहनत करने के बावजूद भी उस लड़की में कोई भी परिवर्तन नहीं आया , यह सब देखकर प्रिंसिपल ने सोचा कि अब हमें इसके पेरेंट्स को बुलाना चाहिए और यह सब बताना चाहिए ,

जब उस लड़की की मा स्कूल में आई तब सारे टीचर्स ने मिलकर उसकी फरियाद उनसे की और प्रिंसिपल ने कहा कि आपकी बेटी disable person है वह यहां पर नहीं पढ़ सकती उसमें जरूर कोई ना कोई खामी है आप उसे उस स्कूल में भेजिए जहां पर disable person वाले बच्चों को पढ़ाया जाता है ,

उसकी मां यह सब कुछ सुन कर बहुत हैरान रह गई और सोचने लगी कि अब उसकी बेटी के भविष्य का क्या होगा , यह सब सोचकर वह अपनी बेटी को एक डॉक्टर के पास ले गए , जब डॉक्टर के पास भी वह लड़की ठीक से 5 मिनट नहीं बैठ रही थी यह सब कुछ देखकर डॉक्टर ने अपने पास पड़े हुए रेडियो को चालू किया जैसे ही रेडियो चालू हुआ वह लड़की डांस करने लग गए ,

inspirational short stories about life



यह देख डॉक्टर खुश हो गए और उसकी मा से कहा कि आपकी बेटी disable person  नहीं है , बस उस में जरूरत से ज्यादा टैलेंट भरा है खुदा ने उसे एक बहुत बड़ी डांसर बनाकर भेजा है , आप इसे ऐसी स्कूल में भेजिए जहां पर उसे डांसिंग सिखाया जाता है ,

मम्मी ने डॉक्टर की बात मान ली और उसे डांसिंग स्कूल में भर्ती कर दिया आज की तारीख में वह लड़की एक बहुत बड़ी डांसर , एक्टर , कोरियोग्राफर और डायरेक्टर है जिनका नाम है गिलियन लेनी
Short inspiring story

दोस्तो बहुत बार हम अपने बच्चों में छुपे टैलेंट को खामी का नाम देकर उसके छुपे टैलेंट को बर्बाद कर देते हैं , इसलिए अच्छा यही है कि बच्चे में छुपी हुई खामी को खामी नहीं बल्कि टैलेंट के रूप में देखें और खासकर के दूसरे बच्चों के साथ कंपेयर मत कीजिए ,

दोस्तों आपने सुना होगा कि कुछ लोग बहुत ज्यादा पढ़ने की वजह से पागल हो जाते है , तो क्या हम उसे पागल कह सकते हैं बिल्कुल नहीं वह भले ही पागल जैसे  रिएक्ट कर रहा हो मगर उसका दिमाग दिन प्रतिदिन तेज होता जाता है ,


0 comments: