सोमवार, 12 नवंबर 2018

Motivational Short sermons for people लोगों के लिए प्रेरक लघु उपदेश

Short sermons : Through this blog I want to give a short sermon to all the people , This short sermons should teach you something , all people know what is meaning edification but dont give edify i give sermons ,

Motivational short seromos



Motivational short sermons 


एक छोटा सा व्यापारी का जिनके घर पर रहने वाला कोई नहीं था , वहां पर सिर्फ वह और उनका एक कुत्ता रहता था ,  वह पूरे दिन उस कुत्ते के साथ बातें करता और कुछ ना कुछ नया उसे सिखाता इस वजह से वह कुत्ता और उस मालिक के बीच में कोई अंतर नहीं रह गया था , कुत्ता मालिक की सारी बातें समझता था और मालिक कुत्ते की हर बात समझता था ,

एक दिन व्यापारी ने सोचा कि क्यों ना मैं इस कुत्ते को कुछ ऐसा सिखावु जिसे सीखने के बाद मेरा और इनका नाम पूरी दुनिया में फेमस हो जाए , यह सोचकर उस मालिक ने कुत्ते को पानी में चलना सिखाया बहुत दिनों की मेहनत के बाद वह कुत्ता पानी में चल सकता था , बार बार यह सोचकर मालिक बहुत मन ही मन खुश हो रहा था और सोचने लगा कि अब मैं इसे पूरी दुनिया में फेमस करूंगा , 

व्यापारी ने अपने पास रहते एक पड़ोसी को कहा कि तुम अपने वीडियो कैमरों लेकर मेरे पास आओ मैं तुम्हें कुछ ऐसा देखता हु  जिसे देखने के बाद तुम चकित रह जावोगे , कुछ देर बाद वह पड़ोसी उनके पास आया ,

Short seromos

लोगों के लिए प्रेरक लघु उपदेश

उस पड़ोसी के आते देखकर व्यापारी के हाथ में गेंद था वह गेंद उसने अपने स्विमिंग पूल में फेंक दिया और अपने कुत्ते से कहा कि जाओ इसे लेकर आओ जब कुत्ता उस स्विमिंग पूल में चलकर उस गेंद को लेकर आया तब व्यापारी ने अपने पड़ोसी से पूछा क्यों चकित हो गए ना क्या सोच रहे हो , 

तब उस पड़ोसी ने जो जवाब दिया उसे सुनकर आप भी चकित हो जाएंगे , उस पड़ोसी ने कहा कि बड़े आश्चर्य की बात है कि तुम्हारे कुत्ते को तैरना नहीं आता , यह सुनकर व्यापारी दंग रह गया जैसे कि अभी आप सब लोग रह गए हैं , 

दोस्तों हम सब भी कुछ ऐसा ही करते हैं हम लोगों को वह दिखाते जो हम देखना चाहते हैं मगर उन्हें दिखता कुछ और ही है जिस वजह से गैर समझ उत्पन्न होती हैं जो हमारे मनोबल  को कमजोर बना देती है इसीलिए किसी भी काम को अपने नजरिए से देखने से पहले दूसरों के नजरिए से देखना बहुत जरूरी है , 

आज मैंने यही सीखा,


0 comments: