Search here

शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2018

What is relationship रिश्ते किसे कहते है

What is relationshipहमारे मन का स्वास्थ्य और हमारा व्यक्तित्व कल्याण हमारे व्यक्तिगत relationship के कारण होता है हर एक relationship का बहुत महत्व है हमारी जिंदगी के लिए ,

What is relationship

     What is relationship

जितना अधिक हम किसी relationship के पास रहते हैं जितना अधिक कम किसी relationship को महसूस करते हैं कितना अधिक हम किसी रिश्ते का एहसास करते हैं उतना ही अधिक हम उस relationship को निभा पाते हैं , दोस्तों में यहां पर सारे रिश्ते के बारे में बात कर रहा हूं वह हर रिश्ता जो किसी एक इंसान से जुड़ा हुआ होता है उस हर रिश्ते के बारे में मैं यहां पर बात कर रहा हूं अगर आप एक लड़के तो आप से जुड़े हुए हजारों relationship जिनमें हैं सबसे पहला आप किसी के बेटे हैं उसके बाद आप किसी के भाई है तदुपरांत आप किसी के पापा और पति है  दादा बनेंगे मामा फूफा मोसा और अगर आप लड़की है तो सबसे पहले तो आप किसी की बेटी होगी उसके बाद किसी की बहन किसी की पत्नी किसी की मम्मी , मामी , मौसी ,  बहु  और सास , 

relationship of friendship


सबसे अलग एक relationship जो भगवान खुद हमें चुनने का अवसर देता है इसके बारे में मैंने पहले भी लिखा है और आज भी कहना चाहता हूं और वह रिश्ता है दोस्ती का रिश्ता , भगवत गीता में कृष्ण भगवान ने कहा था कि सबसे बडा रिश्ता नाही मां और बेटे का होता है ना ही पापा और बेटी का होता है बल्कि सबसे बड़ा रिश्ता दोस्ती का होता है और उसने ऐसा इसलिए कहा था क्योंकि किसी भी relationship को जब दोस्ती का नाम मिलता है तो वह रिश्ता मजबूत हो जाता है ,और दोस्ती के इस relationship का अद्भुत वर्णन मैंने पहले भी किया हुआ है इसलिए यहां पर ज्यादा बात नहीं करूंगा ,

इन महत्वपूर्ण रिश्तों में न केवल परिवार और व्यक्तिगत मित्रों को शामिल नहीं किया जाता है बल्कि व्यापक समूह और समुदायों को भी सामिल किया जाता है , रास्ते में मिले हुए किसी इंसान से आपका एक संबंध कहलाता है व्यापार में मिले हुए कॉन्टैक्ट भी हमारे संबंध कहलाते हैं किसी कॉलोनी में रहते हुए सारे सदस्य एक दूसरे से संबंधी कहलाते है , किसी साजा मिशन के अंतर्गत हम किसी व्यक्ति के साथ पहचान बनाते पह तब वह हमारा संबंध बन जाता है और यही बने हुए संबंधों हमारे व्यक्तित्व का विकास करते हैं , 

relationship सिर्फ यहां तक सीमित नहीं होते , हम जिस से मिलते हैं जिसके साथ बातें करते हैं जिसको हमने देखा है सिर्फ यही तो हमारे relationship की सीमा खत्म नहीं होती रिश्ता तो हर उस इंसान से है जिस इंसान की छवि आपके दिमाग में छपी हुई है और वह उनके किए हुए कर्मों की वजह से ,

हम लादेन और कसाब को भी जानते हैं और हम गांधी बापू और डॉ बी आर अंबेडकर को भी जानते हैं मगर इन दोनों की छवि हमारे दिमाग में विभिन्न प्रकार में छपी हुई है इसमें से आप रिश्ता किसके साथ जोड़ना चाहेंगे सही जवाब है गांधी जी और डॉ बी आर अंबेडकर बस इसी प्रकार हमारे देश समाज को आगे ले जाने वाले हर इंसान से हमारा एक रिश्ता होता है हमारा मनोरंजन करने वाले एक्टर्स सिंगर डांसर उन सब से हमारा एक रिश्ता होता है , 

अगले ब्लॉग में इन सारे relationship का महत्व लेकर आवुगा तब तक के लिए गुड बाय एंड टेक केअर दोस्तों , 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Share your experience with me