गुरुवार, 4 अक्तूबर 2018

what is the difference between poor and rich people thinking

Poor and rich : difference between poor and rich people thinking , Why is it happening that the poor are becoming poor and the rich are becoming rich ,


poor and rich


poor and rich people thinking


क्या फर्क है poor and rich लोगों की सोच में जो उन्हें एक दूसरे से अलग करते हैं , सबसे पहले मैं यहां बता देना चाहता हूं कि मैंने poor and rich लोगों के बारे में आज लिखना क्यों पसंद किया , सब लोगों का यह मानना है कि जो लोग अमीर होते हैं उसे बहुत फायदे होते हैं उसे बहुत मजे होते हैं उन्हें लगता है कि इस दुनिया में अगर कोई खुश है तो वह सिर्फ अमीर लोग हैं

मगर यह बात करते हुए हुए लोग यह नहीं सोचते कि आखिर वह अमीर हुए कैसे हैं क्या उसके ऊपर पैसे की बारिश हुई थी ऐसा तो बिल्कुल नहीं हुआ होगा यह तो आप सभी मानते हैं लेकिन ऐसा क्यों हुआ था कि वह गरीब है और वह अमीर है इन दोनों के बीच में क्या फर्क है बहुत सोचने के बाद इन दोनों के बीच में सिर्फ और सिर्फ एक ही फर्क मुझे दिखा और यह फर्क का उनकी सोच ,

हमारी सोच ही हमें अमीर और गरीब होने का एहसास दिलाती है और इन सब के बारे में बात करने के लिए आज मैंने what is the difference between poor and rich people thinking के बारे में लिखना पसंद किया , 

अमीर और गरीब की सोच


मैं गांव में रहता हूं इसलिए मैं गांव के लोगों को शहर के लोगों के साथ और शहर के लोगों को गांव के लोगों के साथ कंपेयर करूंगा ताकि आपको बहुत अच्छी तरह से समझ में आए , सबसे पहले तो एक गरीब इंसान गरीब इसलिए बना हुआ है क्योंकि उसे अपना वतन नहीं छोड़ना है आपने देखा होगा कि जब अपनों को छोड़ने का वक्त आता है तब आप किसी भी काम को छोड़ देते हैं मगर अमीर इंसान को पता है कि जिंदगी के एक मोड़ पर अपने अपनों को त्याग करना मगर  और यही बात गीता में कृष्ण भगवान ने भी कही है तो यही वह वक्त है जब हम अपनों को छोड़ना नहीं चाहते ,

जिस वजह से हम आगे नहीं बढ़ पाते और हमारी जो जिंदगी है वह वही थम जाती है उस दौरान जिसे ज्ञान है किसके पास अच्छी सोच है वह अपनों को छोड़ने से घबराता नहीं है उसी वजह से वह एक अच्छी मुकाम पर हो जाता है और 1 दिन अमीर आदमी बनकर दिखाता है फिर गरीब इंसान सोचता है उसे तो कितनी अच्छी जिंदगी दी है भगवान ने क्योंकि उसे पता नहीं है कि उसे जिंदगी अच्छी भगवान ने नहीं उसकी सोच ने दी , 


poor are becoming poor 

आज सुबह फिल्म देखते हुए मेरे पास बैठे हुए इंसान ने मुझसे कहा कि इन लोगों को तो कितने मजे हैं जहा चाहे वहां घूम सकते हैं जो चाहे वो खरीद सकते हैं करोड़ों रुपए की गाड़ी चलाते हैं लाखों रुपए की गिफ्ट खरीदते हैं हर त्यौहार धूमधाम से मनाते हैं इनके जितना खुद किस्मत कोई नहीं होगा सिर्फ कुछ देर एक्टिंग करके करोड़ों पर राज करते हैं ,

मगर मैं आप लोगों को बता दूं कि जैसे आप सुबह उठकर 300 या ₹500 के लिए काम पर जाते हैं इसी प्रकार एक्टर भी रोज सुबह उठकर काम पर जाते हैं यह बात अलग है कि उनके रोज के पैसे और आपकी रोज के पैसे में बहुत ज्यादा फर्क है मगर यह फर्क भी एक सोच की वजह से अलग है आपको लगता है की एक्टिंग बहुत ही आसान काम है और स्टार लोगों की जिंदगी बहुत अच्छी होती है ,

उसे जिंदगी में कोई भी दुख नहीं होता है लेकिन ऐसा नहीं होता है और यह बात सिर्फ वही जान सकता  जिसे यह पता हो कि आखिर एक्टिव क्या चीज है और रही बात उनके मजे कि तो मैं आपको बता देता हूं की फिल्म देखने से ज्यादा रियलिटी शो को ज्यादा देखें  तब आपको पता चलेगा कि एक actors  कितनी मेहनत करता है ,

अभी हाल ही में कपिल शर्मा का शो देखते हुए मुझे पता चला कि अजय देवगन ने  पिछले 3 सालों से अपनी मैरिज एनिवर्सरी नहीं मनाई है क्योंकि अगर वह त्यौहारों को इतना महत्व देते तो आज इतने बड़े स्टार नहीं होते हम लोगों की जीन्दगी की तो बहुत आसान है यारों क्योंकि हमें जिंदगी में सिर्फ अपने कामों पर ध्यान देना होता है मगर  स्टार बहुत से लोगों को ध्यान में रखकर जिंदगी जीता है डांस का एक स्टेप सीखने के लिए एक एक्टर्स घंटो तक काम करता हे , 


positive and negative सोच


इसके बारे में ऑलरेडी में बहुत कुछ लिख चूका हु लेकिन फिर भी यहाँ पर बात mind power की नहीं मगर सोच की हो रही है इसलिए दो सब्द जरूर कहुगा , 
अगर शार्ट में बतावु तो जिसके पास पोसिटिव सोच है वह अपनी लाइफ में खुश है और जिसके पास नेगेटिव थिंकिंग है वह भले ही अमीर है फिर भी अपनी लाइफ से परीशान है ,

एक बात जो कोई नहीं कह सकता की हां यह मैंने महसूस नहीं करी है क्यों की सबके साथ यही होता है आपने आज कोई मोटिवेशनल वीडियो देखा या फिर मोटिवेशनल ब्लॉग पढ़ा तो आज के पुरे दिन आपके पास बहुत power होती है मगर अगली सुबह जेसा था वेसा का वेसा हो जाता है ,

मैथ्स के फॉर्मूला जब हम read कर रहे होते है तब हमें लगता है की हमें सब कुछ आता है मगर अप्लाय करते वक़्त सब भूल जाते है क्यों की हमने उसकी prepration नहीं की होती है , इसी प्रकार किसी को बात को सुनने के बाद जो उसे फॉलो करता है वेसी सोच रखने वाला अमीर और दूसरा गरीब , अब आप मुझे बताइये की जो अमीर बना वह अमीर कब बना जब उसने महेनत की right , 

इतना सब कुछ पढ़ने के बाद आपको कम से कम इतना तो पता चल गया होगा की जो इंसान अमीर है वह अमीर युही नहीं हुवा बस इतना ही मुझे भी समजाना था , और लास्ट में एक बात बताना चाहुगा की जो कुछ होता है वह सचमुच अच्छे के लिए होता है , और जो है उसमे खुश रहने वाले अमीर लोग है और जो है उसमे अफसोस जताने वाले जिंदगी में अगर अरबो रुपीस भी कमाएगे फिर भी गरीब होंगे , 


I hope की आपको पसंद आया होगा मेरा यह ब्लॉग different between rich and poor thinking , अगर मेरे इस ब्लॉग ने आपको मोटिवेट किया है तो आप भी मुझे मोटिवेट करने के लिए एक कमेंट जरूर लिखना , मिलते है अगले ब्लॉग में तब तक के लिए take care एंड bye 

          

0 comments: