Search here

बुधवार, 10 अक्तूबर 2018

Top 5 motivation poetry for life जिंदगी की कुछ उद्धरण सायरी

Top 5 motivation poetry 

सफलता / कामयाबी ( success )

मोटिवेशनल सायरी


 दूसरे लोगो के बाद अगर मिले कामयाबी 
तब दुखी मत होना क्यों की , 
मकान तो जल्दी ही बन जाते है मगर 
महेल बनने में देर ही लगती है , 

अक्सर में अपने करीबी इंसान को सफल देखकर सोचता था की में आज भी कमजोर हु आज भी समाज में मेरा कोई वजूद नहीं , मगर हम यह भूल जाते है की अगर हमने सच्चे मन से परीश्रम किया है तो हमें कामयाबी अवश्य मिलेगी , हमें बस अपना परिश्रम चालू रखना है , 

बात यहाँ पर कामयाबी की हो रही है इसलिए एक बहुत अच्छी बार शेयर करना चाहुगा की अपने आपको दुसरो के साथ campair करना छोड़ दीजिये , एक 9 साल का बच्चा अगर एक्टिंग की दुनिया में अपना नाम बनाकर पैसा कमा रहा है तब हम सोचते है की यह बच्चा इतनी उम्र में लाखो रूपये कमा रहा है जब यह बड़ा होगा तब तो करोड़पति बन जायेगा और हम 25 साल की उम्र में भी महीने के 25हजार नहीं कमा रह, 

और यही सोच हमारे दिमाग में खुस जाती है और हम निराश हो जाते है मगर में आपको बता दू की करोडो कमाने वाले सुबह चाय पिते है और हम भी सुबह चाय पीते है बस फर्क सिर्फ इतना रहेगा की हम 20रुपए की कटोरी में चाय पियेंगे और वह 20हजार की कटोरी में चाय पियेगा , वह नास्ते में Cheese and butter खायेगा और हम पराठे , वह Lunch में Manchurian डिश खायेगे और हम सिंपल डिश , वह एक कपडा एक बार use करेगे हम बारबार , उसका घर बड़ा होगा हमारा छोटा , 

अब आप बताईये की 20रूपये की चाय 20रूपये की कटोरी में पीकर क्या आपकी नीद नहीं उडी , नास्ते में पराठे खाकर क्या आपकी भूख नहीं मिटी , Lunch में सिपल डिश खााकर क्या आपकी भूूूख नहीं मिटी , एक ही कपडा बार बार पढ़ने की वजह से क्या आपका बदन नहीं ढका , छोटे से घर में रहकर भी क्या आप को छाया नहीं मीला , इतना सब कुछ तो मिल रहा है मेरे यारो फिर ज्यादा सोचने से क्या फायदा इसीलिए किसी को अगर आप से पहले कामयाबी मिल जाये  तब मायूष  मत होंना ,


परिश्रम / महेनत ( Hard work )


Top quotes poetry


ना किसीका दिया हुवा मिले ,
ना किसी का छीना हुआ मिले ,
मिले तो बस इतना मिले जो नसीब में लिखा हुआ हो ,
और अगर नसीब का भी ना मिले तो फिर कोई गम नहीं ,
बस जिंदगी में किये हुवे परिश्रम का फल जरूर मिले , 

आदत बस इतनी रखो कि हमें किसी के एहसान तले ना जिना पड़े , किसी के एहसानों के तले मिली हुई कुछ कामयाबी कुछ वक्त हमें खुशी देते हैं मगर जब वक्त बदलता है तो वहीं कामयाबी हमें बहुत दर्द दे जाती है , और इससे भी ज्यादा गलत यह होगा कि हम किसी के कामयाबी छीन ले और हम कामयाब बन जाये , 

इसीलिए कामयाब अपनी मेहनत और अपनी बुद्धि चातुर्य से बनना ना कि किसी के एहसान और किसी के दुखों का कारण बन कर , हमारे नसीब में क्या लिखा है वह हमें मिलेगा या नहीं मिलेगा उसकी परवाह करने से ज्यादा इस विषय पर परवाह कीजिए कि अपनी मेहनत जितना हमें मिल जाए ,

मालिक और नोकर ( Owner and servant

Top  quotes poetry


हम किसी के गुलाम बनना पसंद नहीं करते हैं
इसलिए कभी जिंदगी में किसी के मालिक बनने की आशा मत रखना , 

यह छोटी सी दो लाइन हमें बहुत कुछ कह जाती हैं जब हम पर कोई आदेश चलाता है हमें कोई आदेश देता है तब हमें बिलकुल अच्छा नहीं लगता हमें उस पर गुस्सा आता है हम सोचते हैं कि काश हम इसके मालिक होते और हम इसे डरा पाते मगर क्या आपको ऐसा नहीं लगता कि यह सोचना भी गलत है क्योंकि अगर आप किसी की गुलामी नहीं सह सकते फिर आप किसी के मालिक कैसे बन सकते हैं और अगर आप मालिक बन भी गए तो क्या आपको किसी को गुलाम कहना शोभा देगा , 

जब कोई बच्चा अपने मां-बाप को भला बुरा कहता है और उसे घर से बाहर निकाल देता है तब मां बाप उसे कहते हैं कि आज जो हाल हमारा है वह कल तुम्हारा भी होगा आज तो सवाल हम तुम्हें पूछ रहे हैं वह सवाल तुम्हारे बच्चे तुम्हें भी पूछेंगे फिर सोचिये जैसा आज आपको गुलाम रहकर लग रहा है वैसा ही जब आप मालिक बनकर किसी को आदेश देंगे तब उसे लगेगा तो क्या आप का यह फर्ज नहीं बनता कि कभी किसी का मालिक ना बने हम ,

सफलता और विफलता ( Success and failure )


Top quotes poetry


जिंदगी के दो पहलू हैं एक सफलता और एक विफलता ,
सफलता में दुनिया आपकी पहचान करती है
और विफलता में आप दुनिया की पहचान करते हैं ,

यानी कि जब आप सफल हो गए तब दुनिया आपको पहचानेंगे और जब आप विफल हो गए तब आप दुनिया को पहचान जायेगे  और यही जिंदगी का उसूल है आपको पता है जब आप ऊपर आने की कोशिश करेंगे तो दुनिया ही आपको नीचे गिराने की कोशिश करेगी और जब आप अपने परिश्रम से ऊपर आ जाएंगे तब भी दुनिया ही आपको नीचे गिराने में लगी हुई होगी फर्क सिर्फ इतना होगा आप सफल हो गए तब दुनिया आपको पहचानती होगी और जिस दिन  विफल हो गए उस दिन आप दुनिया को पहचानते होगे , आपको नहीं लगता की विफलता भी जिंदगी के मायने सिखा जाती है फिर विफलता पर मायुश क्यों रहे हम , 

जरुरत और ख्वाहिश ( Need and aspire )

Top 5 quotes poetry


अपनी जरूरत के हिसाब से जिंदगी को जीना सीखे 
अपनी  ख्वाहिशों के हिसाब से नहीं , 
क्योंकि जरूरत भिखारी की भी पूर्ण होती है और 
ख्वाहिशें रावण की भी अधूरी रह जाती है , 

कहने का मतलब क्या है दोस्तों जो मैंने पहली शायरी में भी कहा था कि जो कुछ मिल रहा है वह अगर हमारी जरूरत के हिसाब से सही है उससे ज्यादा हमारी जरूरत नहीं है तब हमें खुश हो जाना चाहिए और रही बात ख्वाहिशों की तो आपको पता है कि ख्वाहिश हर किसी की पुणे नहीं होती , 

कुछ चीजें ऐसी होती है जो हम किसी से छीन नहीं सकते जो हमें सिर्फ मिलती है जैसे कि प्यार किसी का अपनापन यह सब कुछ हमें अपने व्यवहार से मिलता है , और यह बात आपको भी पता है कि हमारी ख्वाहिश  कभी खत्म नहीं होती हमें एक चीज मिल जाती है तो हमें दूसरी की आशा होती है और दूसरी के मिल जाने के बाद हमें तीसरे की आशा होती है और जिंदगी में यही आशा चलती ही रहेगी मगर हमारी ख्वाहिश खत्म नहीं होगी इसलिए यही अच्छा है कि हम अपनी जरूरत के हिसाब से जिंदगी को जीना सीखें अगर हमारी जरूरत खत्म हो रही है तब अगर कुछ बचता है तो हम अपनी ख्वाहिशों को पूरा करें मगर ख्वाहिशें इतनी देखें जितनी पूर्ण हो पाए , 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Share your experience with me