शुक्रवार, 24 अगस्त 2018

Island का सफर part 13 The lion came in the field

Island का सफर part 13 The lion came in the field 


Island का सफर part 13 मोटीवेशनल स्टोरी
Island का सफर  एक बहादुर बच्चे की कहानी 

     
हेलो दोस्तों हम बात कर रहे थे island के सफर की जिसमें नेक्स्ट टाइम हमने कुछ सस्पेंस रखा था , एक्सुल्ल में रॉबिंस और जोसेफ ने शेर की दहाड़ सुन लि थी , जैसे ही दोनों ने यह आवाज सुनी दोनों फटाक से ऊपर चढ़ गए , कुछ देर तक दोनों एकदम मोन रहे थोड़ी  देर बाद दोनो की जुबान सुरु ,

रॉबिंस : अ...........ब।

जोसेफ : अब देखते है इसके अलावा कोई दूसरा नहीं है ,

रॉबिंस : ठीक है

जोसेफ : क्या तूम्हारे पास कोई उपाय है ,

रॉबिंस : हमें किसी उपाय की जरूरत नहीं है क्योंकि जब तक हम कुछ करेगे नहीं तब तक शेर हमें कुछ नहीं करेगा ,

जोसेफ : ऐसा कहा सुना ,

रॉबिंस : मेरे गांव में , वहां पर लोग हमेशा कहते थे कि जब तक हम किशी को हैरान नहीं करते तब तक कोई भी जंगली जानवर हमें हैरान नहीं करते है ,

जोसेफ : फिर तो पूरी रात यूहीं गुजर जाएगी एक काम करो बती को ऑफ करदो ताकी वह हमारे पास ना आए ,

रॉबिंस : नहीं एशा करने की कोई जरूरत नहीं है ,

जोसेफ : क्यों ,

रॉबिंस : क्योंकि जहां उजाला होता है वहां पर अक्सर शेर नहीं आते है ,

जोसेफ : अच्छा हुआ तुम्हारे पास कितनी अच्छी जानकारियां हैं वरना पता नहीं आज क्या होता अब सुबह तक हम इसी तरह यहां पर बैठे रहेंगे ,

रॉबिंस : जी बिल्कुल लेकिन  मैंने कहीं यह भी सुना था कि जहां पर आवाज होती है वहां पर भी जंगली जानवर नहीं आते हैं इसलिए क्यों ना हम बातें करें ,

जोसेफ : यह भी ठीक है तुम बताव क्या बात करे ,

रॉबिंस :  क्यों ना हम अंताक्षरी खेले बहुत मजा आएगा ,

जोसेफ : क्या बकवास आईडिया निकाला है तुमने ,

रॉबिंस : क्यों ?

जोसेफ : क्योंकि मुझे जो गाने आते होंगे वह और तुम्हारे देश के गाने अलग हो गए इसलिए मजा नहीं आएगा ,

रोंबिस : नहीं नहीं बहुत मजा आएगा ,

जोसेफ : फिर ठीक है चलो खेलते हैं ,


The lion came in the field


इसके बाद दोनों अंताक्षरी खेलने लगे बहुत देर तक अंताक्षरी खेलते खेलते दोनों सो भी गए सुबह सूरज की किरणें उसकी तरफ गिरी तब उन दोनों को होश आया कुछ देर इधर उधर देखने के बाद उसको अपनी गुजरी हुई रात याद आई थोड़ी देर के लिए तो दोनों खामोश रहे उसके बाद इधर उधर उस शेर को ढूंढने लगे लेकिन उसके आसपास कोई नहीं था और ऊपर चिड़िया जीजी कर रही थी और दूर-दूर गांव वाले भी नजर आ रहे थे बहुत हिम्मत करके दोनों अपने घर के लिए रवाना हुए उन दोनों के पैर काप रहे थे ,  डरते डरते आखिर दोनों अपने घर पहुंच ही गए ,

रॉबिन्स : हम माँ को इसके बारे में कुछ नहीं बतायेगे ,

जोसफ : सही बात है खामखा माँ दर जायेगी ,

रॉबिन्स : ह्म्म्म ,

माँ : आ गए तुम दोनों केसी रही आज की रात ,

जोसफ : बहुत अच्छी रही माँ ,

रॉबिन्स : माँ बहुत भूख लगी है ,

माँ : नास्ता तैयार है चलो बैठ जाव ,

दोनों ने चुप चाप खाना खा लिया फिर गांव में घूमने के लिए और बाते करने के लिए गए सोचा कही से कुछ मसाला मिले आज की रात से  जुड़ा , में आशा करता हु आपको Island का सफर part 13 मोटीवेशनल स्टोरी अच्छी लगी होगी ,

0 comments:

Share your experience with me