रविवार, 1 जुलाई 2018

The power of visualization कल्पना की शक्ति पहचाने

Visualization : A blog about  what is visualization and the power of visualization , How to study with visualization and some important fact about visualization

What is visualization in hindi


Power of visualization
The power of visualization कल्पना की शक्ति पहचाने

               
कुछ लोग ऐसे है जिसे ये पता नहीं होगा की what is visualization (कल्पना) सबसे पहले में उसे बता दू की visualization होता क्या है। जब हम कुछ सोचते है तब हम जो भी सोचते है उसका पूरा चित्र हमारे दिमाग में बन जाता है। जैसे कि हमने अभी सोचा की कल हमने  थिएटर में बैठकर मूवी देखी थी तुरंत हमारे दिमाग मेंं थियेटर की सारी छबिया आ जाती है हमे वह सब कुछ दिखने लगता है जो हमने किया था।

वह सब एक के बाद एक हमारे दिमाग में पिक्चर के रूप में प्रकाशित होता है। उसे कहते है visualization अगर किसी को मेरी तरह समझ में नहीं आया है तो don't worry आगे पढ़ते पढ़ते सब समझ में आ जाएगा ओर मुझे लिखते लिखते समझमें आ जाएगा। लेकिन उसके लिए पूरा पढ़ना जरूरी है और मुझे पूरा लिखना पढ़ेगा। 

हमारा दिमाग सिर्फ चित्र को समझता है शब्दो को नही। हम जो कुछ भी सुनते है उन सारे शब्दों की तस्वीर हमारे दिमाग मे बनती है जैसे कि अभी मैंने लिखा कि एक इंसान पेड़ के नीचे बैठकर आम खा रहा है। अब आपका दिमाग मे ये तस्वीर बन गई होगी क्योंकि हमारे दिमाग के पास इन सारे शब्दों की तस्वीर है।

लोग पढ़ाई में अच्छा इसलिए नही कर पाते क्योंकि पढाई के दौरान जो शब्द हम सुनते है उसमे से 50% शब्दों की तस्वीर हमारे दिमाग के पास नही होती और हमारे स्कूल में प्रैक्टिकल को ज्यादा मह्त्व नही दिया जाता। 

Power of visualization in Hindi

        

Power of visualiztion
सोच दो प्रकार की होती है १) पोजिटिव थिंकिंग २) नेगेटिव थिंकिंग। अब आपके सामने एक सवाल आ गया  कि किसे पोजिटिव थिंकिंग कहते है ओर किसे नेगेटिव थिंंकिंग कहते है। एक बहुत ही सुन्दर example के साथ में आपको समझाता ही।आपका कोई दोस्त यानी मेंं आपको कहता हु कि आने वाली सब एग्जाम में मेरे  रैंक बहुत ख़राब होगे और आप कहते है कि मै तो जाहै जितनी भी पढ़ाई करू मुुझे अच्छे रैंक आयेेगे।

इसमें से आपकी थिंकिंग पोजिटिव है और मेरी नेगेटिव। फाइनल रिज़ल्ट आयेगा आप सचमे अच्छे रैंक के साथ पास हो गया होगा और मै फैल। अब सवाल ये है कि आपके अच्छे मार्क्स क्यों नहीं आए। मेरे अच्छे मार्क्स क्यों आए ? कभी सोचा आपने ? कभी नहीं।
     
अब ध्यान से पढ़ना और समझ में ना आए तो अपने आप को दोश मत देना सोचना की मुझे ही लिखना नही आया। 

विजुअलाइजेशन के साथ पॉजिटिविटी ओर नेगेटिविटी का संबंध क्या है। हमारी यह सोच हमें आगे बढ़ने से रोकती है। हम कोई  काम लिए नेगेटिव सोच रखते है। तब हमारे दिमाग में जो पिक्चर बनती है। वो भी नेगेटिव ही बनती है। जिस वजह से हम कभी उस काम को सफल नहीं बना सकते।

आप परीक्षा में अच्छे रैंक के साथ पास हुए इसलिए नहीं कि उसके पास नॉलेज थी। इसलिए कि उसके पास पोजिटिव थिंकिंग थीं जो उसके दिमाग में ऐसे पिक्चर बना रही थी जो उसे पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करती है। रास्ते पर चलती गाडिया हवा में उड़ता हुआ प्लेन। 

अभी आप जिसे हाथ में लेकर मेरा ब्लॉग पढ़ रहे हो वह मोबाइल या कंप्यूटर। सब कुछ केसे बना टेक्नोलॉजी से ? नहीं सब कुछ तभी बना जब किसी ने यह सब अपने दिमाग विसुअलाइज किया और ना केवल विसुअलाइज किया लेकिन अपनी पोजिटिव थिंकिंग के साथ प्रयास भी किया तब जाकर आज हमारे पास यह टेक्नोलॉजी है।

हमारा दिमाग वह सब कर सकता है को आप सोच भी नहीं सकते। आज के इस जमाने में हमारे पास सोफिया जैसी एक हमिनोलाइज रोबोट है।किस वजह से दोस्तो इसलिए कि जिस किसी ने उसे बनाया वह महान था। नहीं वह भी एक आम इंसान था बस फर्क सिर्फ इतना है कि उसके पास सोच है वह भी पोजिटिव ओर हम नहीं कर पाते क्यों की हमारी जो थिंकिंग है वह नेगेटिव है। 

जिस वजह से हमारी visualization की क्रिया हमें सब नेगेटिव ऑप्शन देती है ओर  we are fail पूरी लाइफ सिर्फ i can and i can not पर निर्भर है। आप क्या  सोचते है उस पर आपका जीवन depend करता है।

How to study with visualization 

बहुत सारे लोग यहां पर होगे जिसका यह सवाल होगा की मूवी की कहानी पूरी याद रह जाती है लेकिन सब्जेक्ट के लेसन क्यों याद नहीं रहते , मूवी के सोंग्स भी याद रह जाए जाते है लेकिन कविताएं क्यों याद नहीं रहती why ? 

इसका कारण यह है कि मूवी देखते समय उस पर दिखाए गए चलचित्र हमारे दिमाग में बस जाते है। ओर पढ़ते समय हमारा ध्यान कहीं ओर ही होता है। अगर आप पढ़ते समय दिए गए पाठ को कल्पना के रूप में दिमाग में कैद करे तो ११०% आप वह कभी नहीं भूल पाएंगे।

पढ़ाई करते समय उसमे दिए गए सब्दो को अपने दिमाग में चित्र, छबिया ओर भावनाओ के साथ कनेक्ट करो ओर सोचो की आप एक मूवी देख रहे है।  पूरे  पाठ की  मूवी के रूप में स्टडी करो। तब आपके द्वारा किए गए स्टडी आप कभी भूल नहीं पाएंगे। कभी कभी हम एशा कुछ स्टडी करते है जिसमें हमें रुचि नहीं जिस वजह से हमारे दिमाग में नकारात्मक भावनाएं उत्पन होती है।

इसलिए अपनी पसंद को हमेशा महत्व देे। यदि आप अपनी छबि को आधे मिनट तक पकड़ कर रख सकते है तब आपकी विजुअलाइजेशन क्षमता अच्छी है। ओर भी बहुत सारे परीबल है जो आपको आपके लक्ष्य को पाने से रोकते है जिसके बारे में मैंने mind power के आर्टिकल में बहुत अच्छी तरह से लिखा है। अगर अपने वह नहीं पढ़ा तो आप वह जाके पढ़ सकता है।

विजुअलाइजेशन को शक्तिशाली बनाने के लिए मेडिटेशन बहुत जरूरी है। आज के इस आर्टिकल में अगर उसके बारे में बताने गया तो आर्टिकल बड़ा हो जाएगा , इसलिए नेक्स्ट आर्टिकल में हम आपके लिए मेडिटेशन की पूरी जानकारी लेकर आयेगे। अगर आपको अभी जानना है तो आप गूगल में सर्च कर सकते है।

बस यही थी मेरी जिंदगी में आज की सिख...  

0 comments:

Share your experience with me