बुधवार, 13 जून 2018

How to maintain our schedule / only four hour managment

Schedule : How to mantain our study schedule for Best rank ,
you can pass all field with this schedule , This schedule is one of the best schedule for study and all work ,

How to mantain our schedule ,

Apna time table kese maintain kare
How to manage our schedule

             
ये बात तो सब जानते है कि बिना किसी टाइम टेबल के अगर आप जिन्दगी जीने जाओगे तो आपका ओर आपके लाइफ को अच्छी नहीं बना पा सकत क्यों बिना संविधान के तो हमारा देश भी नहीं चलता ओर अगर जिन्दगी में अगर कुछ बना हो , तो टाइम टेबल जरूरी है , शाहरुख सर ने भी कहा है कि जिन्दगी में अगर कुछ बनना है कुछ हासिल करना है तो टाइम टेबल को बनावो , ये जो लास्ट वाली लाइन थी वहा पर कुह ओर कहा था शाहरुख और ने ( तो अपने दिल की सुनो ) लेकीन सब कॉपी करुगा तो कॉपीराइट इशू हो जाएगा इसलिए , ओक दोस्तो अब बकवास बहुत हो गई काम की बात करे ,

      
सबसे पहले कुछ अपनी गलतिया और कुछ कॉमन गलतिया जो सब करते उसकी बात करते है ,  मेरी बात करे तो दोस्तो भी कभी अपना टाइम टेबल मेनटेन नहीं कर पाया लेकिन जब मैंने अपने ब्रेन के बारे में स्टडी की तो मै अपना  काम टाइम पर करने लगा , ओर जो मैंने अपने ब्रेन  के बारे ने पढ़ा उसका  एक छोटा सा टुकड़ा मैंने अपने माइंड पॉवर के ब्लॉग मै लिखा है ,

सच  में दोस्तो वो बहुत ही यूजफुल है अगर अपने नहीं पढ़ा तो उसे जरूर पढ़ें क्यों की बहुत सारी किताबें पढ़ पढ़। के कुछ अच्छे खयाल नोट कर कर के मै एक आर्टिकल लिखता हूं  , जो आपको यूजफुल हो क्योंकि  अभी की बात तो चलो ठीक है कॉम्पिटिशन है बहुत ज्यादा है लेकिन जैसे जैसे दुनिया आगे बढ़े गी कॉम्पिटिशन  ओर मुश्किल हो जाएगा ओर इस कॉम्पिटिशन अगर आपको  अपनी पहेचान बनानी है तो अपना एक टाइम टेबल बनाइए ओर उसके हिसाब से चले ,

जैसे की मैंने अभी आपको बताया माइंड पावर ब्लॉग के बारे में अगर वो अपने पढ़ा है फिर तो  में आपको दावे के साथ कह कह सकता हूं कि आप अपना टाइम टेबल बिल्कुल फॉलो कर पाएंगे , लेकिन अगर अपने वो नहीं पढ़ा तो में  इस ब्लॉग मै आपको कुछ अपनी ओर कुछ आपकी प्रॉब्लम को शेयर करूगा मुझे यकीन है आप कामयाब होगे , ओर होना भी चाहिए क्योंकि लाइफ बनाने   के लिए बहुत जरूरी है ,

बचपन में जब भी में टाइम टेबल बनाता  था तो कुछ दिन फ़ॉलो करने के बाद फिर वही खेलना कूदना सब भूल जाता था , बचपन  तो जैसे तैसे कट गया सेकंडरी स्कूल  में आया तब भी कभी कुछ नहीं कर सका लेकिन  एक बात नोटिस की जो मैंने  ओर अपने भी की होगी ओ ये ही की आपके क्लास  में जो लड़का या लड़की frist आती होगी उस आप देखते होगे उसके चहेरे पर कभी मायूसी आपको नहीं दिखी होगी नहीं वो पूरा दिन किताबो में रहता होगा सबके साथ मिलजुल के रहने वाला लड़का frist क्यों आता है , ओर कुछ लोग एशे होगे जो पूरा दिन किताबें पढ़ने। के बावजूद भी कभी frist ओर नहीं दूसरा नंबर ला पाते है , उसका मेंन रेसन पता है क्या नो सेड्यूल जिसके वजह से कभी  आप नंबर नहीं  ला सकते  तो आप अपना टाइम टेबल बनाइए केसे बनाते है ,

Only four hours


एक दिन में २४ कलाक होते है , जिसमें से ६ hour आप स्कूल में बिताते है , ८ hour आप सोते है , २ hour चोटी मोटी एक्टिविटी जैसे कि नाहना ,खाना ,दोस्तो  के साथ बाते करना इतना सब कुछ होने के बाद भी आपके पास बसे ८ hour उसमे से आप ४ hour खेलिए , लेकिन दिन में सिर्फ ४ hour तो रीडिंग कीजिए , दोस्तो में आपको बतादू वो  जो लड़का  या लड़की आपके क्लास में पहले नंबर पर आते थे , वो रोंज नाही १० hour पढ़ते थे नाही ८ ,  वो सिर्फ ४ hour पढ़ते थे , लेकिन मैन बाद जो बहुत जरूरी है  वो ये है दोस्तो की वो ४ hour भले ही पढ़ते थे लेकिन वो रोज ४ hour पढ़ते सुना दोस्तो अपने रोंज ,

यही मैन पॉइंट था उसके कामयाबी। का   अब आपके कामयाबी  का भी , ये सही बात है दोस्तो जिन्दगी में कुछ बनने के लिए पूरा दिन या पूरी रात पढ़ना नहीं है  रोज पढ़ने  से कामयाबी मिलती है , यही बात है दोस्तो जो में आपको इस आर्टिकल मैं बताना चाहता हू , लेकिन  एक बात है जिसका खयाल अगर अपने नहीं रखा तो समझ लो आप फिर फैल हो गए ओर  ओ है वीकनेस किसी भी सब्जेस्ट या किसी भी एक्टि विटी में किस एंगल पर आप वीक हो उस पता करो उसे दूर करो ,

गीता में कृष्णा भगवान ने कहा है कि कोई भी इंसान पूरी तरह से ठीक नहीं होता किशिना किसी  में कोई ना कोई खामी अवश्य होती है , क्या अपने कभी एशा इंसान देखा है जो पूरी तरह से सवस्थ है , नहीं ना किसी नकिशी में कोई ना कोई खामी बिल्कुल होती है , लेकिन उसमें से कुछ लोग ऐसे होते है जो अपनी इस खामी को ढूंढ कर उसका  सामना करते है ओर अपनी लाइफ को अच्छी करते है , आपको भी उस इंसान की तरह अपना वीकनेस पता करे ओर उसे दूर करे , ४ hour पढ़ने में अगर आप आधा आधा hour हर सब्जेक्ट को देते है तो आप एक hour उस सब्जेक्ट को दीजिए जिसमें आप वीक है ,

११/१२ साइंस में ४ समेस्तर में मुझे फिजिक्स बिल्कुल अच्छा नहीं लगता था ,मै सोचा की लास्ट एग्जाम में कम से कम पास तो हो ही जावुगा लेकिन येशा नहीं हुआ , इसलिए अपनी वीकनेस पता करे ओर उस ढूंढे , सुबह जब उठे रात को  सोते है  वो सब आप डिसाइड करे आप सुबह ८ बजे से ३ बजे तक सोए ओर रात को ४ hour पढ़े कोई प्रॉब्लम नहीं है , हा एक saggestion जरूर दुगा ४ hour में  कम से कम २ hour सुबह पढ़े , क्यों की सुबह पढ़ा हुआ बहुत याद रहता है , बस इतना ही कहना  था


     


          

0 comments: