रविवार, 24 जून 2018

Who is our best friends | importance of friends in hindi

In this blog I write about friendship. Who is our Best and true friends and what is importance of friends in our life. How can we find a true and best friends for us. 

हमारी ज़िंदगी में सच्चे दोस्त का महत्व  Who is our best friends   

Importance of friend
हमारी ज़िंदगी में सच्चे दोस्त का महत्व , important of friends

जब हम धरती पर आते है तब हमारे पास सारे रिश्ते होते है मा, पापा, भाई, बहन, काका मामा, सब रिश्ते होते है लेकिन एक रिश्ता है जो हम खुद बनाते है वह है दोस्ती का रिश्ता,

एक लड़का अपनी टीचर के पास गया और उनसे कहा कि मैडम आप तो मुझे बहुत अच्छी तरह से जानते है क्या आप मुझे बता सकते है कि मेरी जिंदगी कैसी होगा। टीचर ने कहा कि तुम बस मुझे अपने मित्र दिखाओ मैं बता दूँगी की तुम्हारी जिंदगी कैसे होगी।

सारे रिश्ते हमें सही रास्ते में ले जाने की कोशिश करते है जो हमें ईश्वर ने दिए है, लेकिन क्या वह रिश्ता जो आपने चुना है वह आपको सही रास्ते में ले जाने की कोशिश करता है या नहीं कभी आपने सोचा है क्यों की एक खराब संगत आपकी जिंदगी बर्बाद कर सकती है,

एक सच्चा दोस्त हमें कहता है चलो स्टडी करते है  दूसरी ओर दूसरा दोस्त कहता है चलो खेलते है इसमें से कोनसा दोस्त सही है सोचिए ................ !

मुझे पता है बहुत सोचने के बाद आपका जवाब यह होगा कि वह इंसान हमें खेलने के लिए प्रोत्साहन कर रहा है वह बुरा है लेकिन नहीं वो इंसान जो स्टडी करने को कह रहा ओर जो खेलने को कहा रहा है इसमें से एक भी दोस्त बुरा नहीं है,

क्यों की हम भले ही कितने ही अच्छे क्यों ना हो लेकिन हम किसी और को बुरा नहीं कह सकते, इसलिए आपको एक अच्छे इंसान की तरह करना वो है जो आपके लिए सही है, जिसे करने से आपको कोई नुकसान ना हो,

जिस दोस्त की बाते आपको सही लगे वही एक सच्चा दोस्त है, जिनकी किसी भी बार में कोई भी गलत सजेशन ना हो। एक इंसान जो अच्छी संगत में है वो अपनी लाइफ में successful होगा और वह इंसान जो बुरी संगत में है वो अपनी लाइफ बिगाड़ कर रख देगा।

इसलिए सही दोस्त चुने। कभी कभी हम गलत राह पर चले जाते है ओर अपने आप को दोष देते है, लेकिन आपकी जिंदगी में आग किसी ओर की ही होती है, क्यों की ज्यादातर हम उन लोगो से दोस्ती करते है  जो पैसे वाला है जिसकी जेब भारी हुई है, यह सोचकर हम उसके दोस्त बन जाते है लेकिन वो दोस्ती नहीं है ,

दोस्त तो हम उस कहते है जो हम जैसा है जिसमें हमें अपना चहेरा दिखे जिसके सामने खड़े रहने पर हमें अपने आप पर शंका न हो,  भले ही गरीब है उसकी जेब खाली है लेकिन वो एक सच्चा दोस्त है, वो जिंदगी के हर मोड़ पर आपका साथ देगा, कभी आपको एक्सक्यूज नहीं देगा इसलिए दोस्त चुने अपने जैसा,

सच्चा दोस्त होने पर आपकी लाइफ कभी भी गलत राह पर नहीं जाएगी। दोस्ती का रिश्ता विश्वास प्यार ओर त्याग से बना होता है। दोस्ती में कभी कुछ पानी  की उम्मीद नहीं रखनी चाहिए क्यों की  हमें कुछ मिलता नहीं तब हमारे दिमाग में नकारात्म भावना आ जााती है ,

     Which is our best friend 

  १ एक अच्छा दोस्त कभी भी दूसरो के सामने आपकी बुराइयां नहीं करेगा , 

 २ एक अच्छा दोस्त जब आप कोई गलत काम करोगे तब आपका साथ नहीं देगा  बल्कि आपको  वह करने से रोकेगा। भले ही उसे आपके सामने लड़ना पड़े वो पीछे नहीं हटता ,

   ३  कुछ दोस्त होते है जो आपकी गलतियां आपको नहीं बताते लेकिन सच्चा दोस्त आपकी गलतियां आपकी कमिया सब आपको बताता है, 

   ४ वह सब के सामने आपकी तारीफ करता है कभी भी आपकी बुराइयां नहीं करता , 

   ५  आज  कल के मॉडर्न जमाने में कर्म करना सबने छोड़ दिया है लेकिन सच्चा दोस्त वही है जो आपको कर्म की परिभाषा को सिखाए। तभी आप अपने समाज में अपना नाम बना पाएंगे 

   ६  कुछ दोस्त बुरे समय में हमारा साथ छोड़ देते है लेकिन जो बुरे वक़्त पर आपको काम आए उस दोस्त पर कभी शक नहीं करते। वही सच्चा दोस्त है ,

  ७ एक सच्चा मित्र कभी आपको नीचा दिखाने की कोशिश नहीं करता है। वो हर मोड़ पर आपको प्रोत्साहित करता है। 

   ८ एक सच्चा दोस्त जब आप बात करते है तब आपको सुनता है  आपको समझाता है, कभी आपको बीच में टोकता नहीं है। 

अब इतनी सारी quality आपको कहा मिलेगी, सोचिए, चलिए मैं बता देता हूं,

Who is our Best Friend


अगर एक पंक्ति में कहु तो सच्चा मित्र वो है जो आपके साथ हमेशा रहता है और आपके साथ हमेशा सिर्फ आप ही रहते है इसलिए इंसान का सच्चा मित्र वो खुद होता है। मित्र बनाना अच्छी बात है लेकिन खुद के अलावा दुसरो को सच्चा मित्र समझना ये तो बेवकूफी है।
हम लोग मित्र बनाते क्यों है ताकी हम उनके साथ वक़्त बीता सके, अपनी बातें उन्हें शेयर कर सके, उनके साथ हँसी मजाक कर सके, कुछ मदद मांग सके या कर सके,
ये सब कुछ मिलता है लेकिन क्या हो अगर वही मित्र आपकी हँसी उड़ाने लगे, आपके साथ बुरा बर्ताव करने लगे, आपकी सबके सामने खिल्ली उड़ाए। एक ही चीज़ है जिसे बदलने में देर नही लगती और वो है “वक़्त"
ये सब हो सकता है क्योंकि इंसान की फितरत ही दूसरों को दर्द देकर अपने दर्दो को भरने की है लेकिन अगर हमने अपने आपको अपना सच्चा मित्र बनाया फिर मुझे नही लगता कि हमें किसी और को सच्चा मित्र बनाने की जरूरत है।
हम अगर अपने आपसे सच्ची मित्रता करले फिर हमे सिर्फ मित्र की जरूरत पड़ेगी सच्चे मित्र की नही।

बस यही थी मेरी जिंदगी में आज की सिख....

0 comments:

Share your experience with me