Search here

शुक्रवार, 6 सितंबर 2019

सितंबर 06, 2019

आज की बारिश और आज का मेरा दिन enjoy with rain

आज की बारिश और आज का मेरा दिन 

आज बारिश की वजह से मोहल्ले में पानी भर गया तब उस पानी की धारा को देखकर बचपन के वह लम्हे याद या गए, जब इन्ही धारा में हम कागज की नाव बनाकर छोड़ा करते थे, हर घर से कम से 10 से 20 नाव छोड़ी जाती थी और जहां पर पानी रुकता था वहां पर कागज की ढेर हो जाती थी,



आज वही मोहल्ला वही बारिश वही पानी की धारा थी but नाव एक भी नही, इस घटना को देखकर बरसो पहले सुनी एक poem की दो आधी अधूरी पंक्ति याद गई कि.....


आज कल उदास फिरता है
बारिश में मोहल्ले का पानी,
क्योंकि नाव बनाने वाले...
हाथों ने मोबाइल से रिश्ता जोड़ लिया,


आज जब बारिश की बूंदे खड़की के काँच से छू रही थी तो ऐसा लगा कि बारिश मुझे भीगने बुला रही हो, मैंने अपने पड़ोस के एक बच्चे को आवाज लगाई जो दुसरो के मोबाइल में कुछ देख रहा था मैंने उससे कहा कि चलो बारिश में भीगते है but उसने आने से मना कर दिया, फिर मेरी नज़र उस खिड़की पर गई...

वह बूंदे काँच की खटपटा रही थी...
मैं उनके संग खेलता था कभी...
लेकिन तब मैं छोटा था
औऱ..यह बातें भी छोटी थी
तब घर जल्दी जाने की...किसको पड़ी थी,


बचपन मे जिस पानी मे छपाके लगाते थे...उसमे अब किटाणु दिखने लगे...आज जब बारिश से भरे हुए खड़े देखता हूं तो अपने आपसे सवाल पूछता हूं कि क्या बचपन में मैं ही इन गड्ढों में छलांग लगा लगा कर भीगता था, बचपन में सारे student का एक ही सपना होता है कि यह बारिश जम के बरसे और मुझे छुट्टी मिल जाए but आज बारीश जरा ज्यादा बरसे तो कहर हो जाता है, 


बुधवार, 4 सितंबर 2019

सितंबर 04, 2019

Best motivational and inspiring poem 【क्या सही हु मैं】



Best motivational and inspiring poem 

क्या सही हु मै

आज एक बहुत अच्छी poem लिखना चाहता हूं poem बेशक मैंने नहीं लिखी है लेकिन बहुत काम की poem है मेरे और आपके, आज मैं भी कुछ सीख लेता हूं इस poem से और हो सके तो आप भी बहुत कुछ सीख लेना इस poem से, ज्यादा वक्त ना लेते हुए सबसे पहले कविता सुनते हैं और उसके बाद उस पर थोड़ी सी चर्चा करते हैं,

Motivational poem क्या सही हु मैं


Best motivational and inspiring poem
Best motivational and inspiring poem 

यू ढूंड खुद को खुद में क्या यही है तू, 
यू ढूंड खुद को खुद में क्या यही है तू, 
खुद को पूछ यह बात बार-बार 
क्या सही है तू ? 

क्या कमी है...
सब तो यही है...
फिर क्यों दुखी है तू, 
तुझे दुनिया से क्या..
तेरी दुनिया तो खुद ही है तू,

लड़ना भी है तो खुदसे लड़,
क्योंकि खुदको हराता और जीतता..
खुद ही है तू,
खुद को पूछ यह बात बार-बार 
क्या सही है तू ?

तुझे आंकना है खुद को, तुझे मापना है खुद को, 
तुझे आंकना है खुद को, तुझे मापना है खुद को,
फिर जीत कर दिखाना है तुझको और कहना है सबको की...
हा यही हु मैं, 
लेकिन फिर भी खुदको पूछता रहना है तुझको 


बस यह छोटी सी poem थी जो लिखी थी किसी ने अपने आप के लिए but मैंने इस poem को इस तरह से लिखा जैसे यह poem हमसे कुछ कह रही हो, मैं हर बात को इस तरह से लिखने की कोशिश करता हूं जैसे वह लिखावट हमसे बातें कर रही हो और तब जाकर उसके एक-एक शब्द हमारे दिल को छूते हैं,

सोमवार, 2 सितंबर 2019

सितंबर 02, 2019

भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi

भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi

आज मुझे उस सवाल का जवाब मिला जिस सवाल का जवाब करोड़ों लोग ढूंढ रहे हैं, न जाने कितनी बार मैंने यह सवाल पूछते हुए लोगों को देखा है और कहीं ना कहीं मेरे दिमाग में भी यही सवाल घूमता रहता था, मैं भी उन लोगों में था जो अक्सर लोगों से सवाल पूछा करता था कि भगवान होता है या नहीं अगर होता है तो किसने देखा, हमारी जो महान ग्रंथभगवत गीता, रामायण ग्रंथ यह सब किसने लिखे किसने ढूंढे क्या इसमें लिखी हुई बात सच है, 

ऐसे तो न जाने कितने सवाल हर इंसान के मन में होते हैं और शायद इसीलिए मेरे मन में भी कभी ना कभी यह सवाल आते रहते थे but सवाल थे इसलिए जवाब को ढूंढना जरूरी था और मुझे सवालों के जवाब ढूंढना कितना पसंद है वह तो आप पिछले 1 साल से जानते ही है,

भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi

भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi
भगवान होते हैं या नही does God really exist in Hindi

इस सवाल को ढूंढने के लिए मैंने न जाने कितनी बातें कितने वीडियोस और कितने अर्टिकल्स पढ़े है but मुझे कभी भी उनमें संतोष नहीं हुआ because मेरा मानना है कि कोई भी जानकारी complite नहीं होती, 

हम सब सोचते है कि जैसा हम सोच रहे हैं वह सब सच है but दुनिया की कोई भी जानकारी complite नहीं होती और शायद इसीलिए मुझे कभी भी किसी की भी बात सच नहीं लगी और न ही जुठ लगी, but आज किसी तरह से मुझे जवाब मिल गया लेकिन जवाब देने से पहले मैं कुछ सवाल आप लोगों से पूछना चाहता हूं because यही सवाल आपको भी जवाब देंगे कि भगवान होते हैं या नहीं,

आप सब ने cricket खेला होगा अगर खेला नहीं है तो देखा तो जरूर होगा, क्या cricket खेलते या देखते वक्त कभी आपके दिमाग में यह सवाल उठा कि क्रिकेट में 3 स्टंप ही क्यों होता है,  क्या आपने कभी अपने कैप्टन को या फिर अंपायर से यह सवाल पूछा है की cricket में 3 स्टंप पर क्यों होते हैं,

मैं जानता हूं कि कभी आपने यह सवाल पूछा नहीं होगा और पूछना भी मत because आपको भी पता है और मुझे भी पता है ऐसे सवाल पूछने से मैदान में क्या हालत होती है चलिए यह सब तो ठीक है but सवाल यह है कि भगवान होते हैं या नही,

अगर जिंदगी में किसी भी क्षेत्र में कार्य करना हो और उसका आनंद लेना हो तो कभी भी सिद्धांत पर सवाल मत उठाना, मतलब कि कभी भी अपने fundamental पर सवाल नहीं करना, हमेशा उसे स्वीकार लेना,गर कभी भी आप सिद्धांत (fundamental) पर सोचने लगे तो समझ लीजिए कि आप अपना वक्त बर्बाद कर रहे हैं, 

सोचिए कि आप एक स्टॉल पर आइसक्रीम खरीदने गए और आपने वहां पर सवाल किया कि यह आइसक्रीम किसके दूध से बनी हुई है इसमें क्या क्या डाला हुआ है यह किस कंपनी में बनी है इसे बनाने वाला कौन है इसका आविष्कार किसने किया था तो क्या आप उस आइसक्रीम का मजा ले पाएंगे, 

दूसरी बात यह है कि हमारे जो महान ग्रंथ है उसको किसने लिखा था उसमें लिखित बात सच है या नहीं इस पर सोचने से अच्छा आप उसके रास्ते पर चलना शुरू कर दीजिए, आपको अपने आप पता चल जाएगा कि वह सारी बातें सच है या झूठ, सब मिलाकर एक ही बात कहना चाहता हूं कि कभी भी सिद्धांत (fundamental) के ऊपर सवाल नहीं उठने चाहिए,

अब शायद आपको यह जवाब मिल गया होगा कि भगवान होते हैं या नहीं, अगर नहीं मिला है तो कोई बात नहीं मुझे तो मिल गया, आप चाहे तो इस video को देख सकते है जहाँ से मुझे इस बात का ज्ञान हुआ है

गुरुवार, 8 अगस्त 2019

अगस्त 08, 2019

कैसे बने गुजराती इतने अमीर How did Gujarati become so rich


कैसे बने गुजराती इतने अमीर How did Gujarati become so rich


मेरा एक दोस्त मुझसे आकर आज कहने लगा कि मुझे यहां पर रहना ही नहीं है यहां पर कुछ करने जैसा नहीं इसलिए मैं dubai में जाकर कोई भी काम करूंगा क्योंकि dubai भारत से बहुत अच्छा है,

यह सुनकर मुझे ऐसा लगा कि बहुत सारे ऐसे लोग होंगे जिसे ऐसा लगता होगा कि हमारा भारत दूसरे देश के मुकाबले बहुत पीछे है but आज मैं आपको एक ऐसे state के बारे में बताऊंगा जिसके बारे में सुनकर आपको पता चलेगा कि हमारा भारत देश कितना आगे है  मैं Gujarat में रहता हूं इसलिए Gujarat की बात करूंगा,

मैंने आज यह टॉपिक इस लिए पसंद किया है because इसमें आपको बहुत कुछ सीखने मिलेगा, मैं आपको गुजरात के बारे में इसलिए नहीं बता रहा हूं कि मैं गुजरात में रहता हूं मैं इसलिए आपको बता रहा हूं because मुझे ऐसा लगता है कि मुझे और आपको भी एक गुजराती से बहुत कुछ सीखने की जरूरत है, हमारे देश के सभी state की अपनी अपनी विशेषताएं है but मैं गुजरात में रहता हूं इसलिए मुझे Gujarat की विशेषताओं के बारे में पता है,

गुजरात के बारेमें कुछ जानकारी



कैसे बने गुजराती इतने अमीर How did Gujarati become so rich
कैसे बने गुजराती इतने अमीर How did Gujarati become so rich

गुजराती लोगो को बचपन से धीरूभाई अंबानी का उदाहरण दिया जाता है घर हो स्कूल हो या कॉलेज हो हर जगह बस धीरूभाई अंबानी की बाते सुनाई देती है और उसके साथ साथ एक ही बात दिमाग में डाल दी जाती है कि कुछ बड़ा करना है,

गुजराती के दिमाग में एक ही बात चलती रहती है कि कुछ बड़ा कर लो जिंदगी में अगर नहीं कर पाए तो दूसरे कर जाएंगे और हमें वहां पर नौकरी करनी पड़ेगी,  हर गुजराती के पास सारे सवालों के जवाब होते हैं लेकिन सिर्फ एक condition है कि सवाल दूसरों के होने चाहिए,

भारत की 5% पॉपुलेशन वाला यह राज्य देश का 1/4 export Gujarat करता है देश का 1/4 cotton गुजरात प्रोड्यूस करता है देश का 1/4 milk प्रोड्यूस करता है दुनिया के 10 मैं से 8 हीरे Gujarat के सूरत में पोलिस होते है

Gujarat अगर एक independent देश होता तो चीन और साउथ कोरिया के बाद तीसरी सबसे fastest growing economy होता, इसका कारण है Gujarat का 1600km समुद्र किनारा, भारत के किसी भी state के पास इतना समुद्र किनारा नही है,  सदियों से गुजराती इसके जरिये business करते आ रहे है, शाहरुख खान की रहिज मूवी मैं एक डॉयलोग है कि गुजरात की हवा में व्यापार है.

कहते है कि कोई भी इंसान मारवाड़ी से सस्ता खरीद नही सकता और सिंधी को महंगा बेच नही सकता लेकिन… गुजराती वह है जो मारवाड़ी से सामान खरीदता है और सिंधी को बेचता है फिर भी पैसे कमा लेता है, मैं ये नहीं कह रहा हूं कि गुजराती लोग बहुत कंजूस होते हैं लेकिन डिस्काउंट उनके रग-रग में बसा होता है कितना भी अमीर गुजराती है वह डिस्काउंट के बिना सामान नहीं लेगा,

आप खुद ही सोचिए कि जिस राज्य का मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी हो वह राज्य आगे तो बढ़ेगा ही, भारत के 50% अरबपति Gujarat के है अम्बानी हो या अदानी हो गाँधीजी हो या मोदीजी हो, सब गुजराती है..

अंत में एक कमाल की बात बताता हूं नॉर्थ अमेरिका की अंदर एक गुजराती की ऐवरेज income अमेरिकन की ऐवरेज income से 3 गुना ज्यादा है, अक्सर लोग पैसा कमाने के बाद मजा करते हैं और गुजराती लोग जमा करते हैं और रही बात मजा करने की तो गुजराती लोग बिजनेस को ही मजा समझते हैं,



सोमवार, 22 जुलाई 2019

जुलाई 22, 2019

सुबह जल्दी उठना... रात को जल्दी सोना... क्या जरूरी है motivational talks

सुबह जल्दी उठना... रात को जल्दी सोना... क्या जरूरी है motivational talks


मैंने कुछ दिन पहले कुछ ऐसी आदते लिखी थी जो आदत, अगर मैं और आप अपनी जिंदगी में apply करते हैं तो हम अपनी जिंदगी में कुछ तो ढंग का जरूर कर सकते हैं उसमें से एक आदत ऐसी थी जिस पर कुछ लोगों ने question उठाए,  उस habit के बारे में बात करने के लिए मैं आज आपके पास आया हूं,

मैंने सबसे पहली आदत की आपको बताई थी कि अगर हम दूसरों के मुकाबले रोज सुबह 2 घंटे पहले उठते हैं और रात को जल्दी सोते हैं तो हमें बहुत ज्यादा benifit होगा, इस पर मुझे एक comment मिला जिसमे लिखा था कि गांव के लोग जल्दी सो जाते हैं और शहर के लोग जल्दी नहीं सोते फिर भी वह लोग गांव के लोगों से ज्यादा अमीर है और गांव के लोगों से ज्यादा अच्छी जिंदगी जी रहे है,

इस सवाल का जवाब देने से पहले मैं यह जानना चाहता हूं मेरे सभी दोस्तों से कि... क्या आपको भी यह गलतफहमी है कि  शहर के लोग गांव के लोगों से ज्यादा अच्छी जिंदगी जी रहे हैं इस बात का जवाब आप मुझे जरूर बताना but अभी मैं अपनी ओर से कुछ बातें आप लोगों के साथ शेयर करना चाहता हूं इस सवाल से related

सुबह जल्दी उठना... रात को जल्दी सोना... क्या जरूरी है

सुबह जल्दी उठना... रात को जल्दी सोना... क्या जरूरी है motivational talks

आप किसी भी बड़े इंसान की biography को अगर Read करेंगे या सुनेगे तो आपको उनमें एक ही बात commen दिखेगी और वह यह है कि biography की starting मैं ही लिखा होगा कि इस इंसान का जन्म एक छोटे से गांव में हुआ था और कड़ी मेहनत करने के बाद वो शहेर आये अपने सपने को और अपनी काबिलियत को उड़ान देने के लिए और आज वह इस मुकाम को हासिल कर पाए, हर वह इंसान जो आज कामयाब है वह एक गांव से होकर गुजरता है

जो लोग पहले से ही शहर में बसे होते हैं उन लोगों को तो हम middle-class कह कर बुलाते हैं और Maybe आपको इस बात का पता नहीं होगा कि उस middle-class फैमिली से ज्यादा पैसे तो गांव के सबसे गरीब इंसान के पास होते हैं यह बात अलग है कि गांव के लोग अपने पैसों का दिखावा नहीं करते, वह चाहे कितने भी अमीर हो दिखते एक मामूली किसान जैसे हैं,

मैं ऐसा नहीं कह रहा हूं कि शहर से लोग बड़े नहीं बनते but अगर कोई है जो शहर में बड़ा होकर बहुत बड़ा इंसान बन चुका है तो आप उस इंसान के पास जाकर उसे पूछना कि आपकी family कहां से बिलॉन्ग करती हैं तो जवाब आपको यह मिलेगा कि हम सबसे पहले एक गांव में रहते थे और वहां से हम शहर में रहने के लिए आए और हमने यह सब कुछ हासिल किया,

शहर में बड़े लोग रहते हैं इसका मतलब यह नहीं है कि शहर के लोग बड़े होते हैं और गांव के लोग छोटे होते हैं बस फर्क सिर्फ इतना है कि गांव में जो लोग अपने आप को साबित नहीं कर पाते हैं वह लोग शहर में जाकर बसते हैं और अपनी काबिलियत को  एक उड़ान देते हैं,

इस बात से मुझे एक और बात याद आ गई है कि कुछ लोगों का यह question होता है कि हमारा देश आगे क्यों नहीं बढ़ रहा है तो इसका question भी इसी में छुपा हुआ है जो लोग अपने आप को इस देश में यानी कि हमारे देश में साबित नहीं कर पाते वह लोग दूसरे देश में जाकर अपनी काबिलियत को उड़ान देते हैं जैसे कि सुंदर पिचाई.....

बस यही बात है मैं आप लोगों के साथ share करना चाहता था मुझे इस बात का कोई दुख नहीं है कि आप मुझे गलत साबित करने की कोशिश करते हैं but मुझे इस बात की बहुत खुशी है कि आप मुझसे questions पूछते हैं क्योंकि आपके सवालों के जवाब ढूंढने में मुझे बहुत अच्छा लगता है और इससे मेरा knowledge भी बहुत आगे बढ़ता है,

I know कि इसे लास्ट तक पढ़ने के बाद किसी ना किसी के दिमाग में यह question जरूर आया होगा कि शहर के लोग आगे क्यों नहीं बढ़ पाते हैं but कुछ दिन धैर्य रखें, मैं इसी बात का पता करने की कोशिश कर रहा हूं और बहुत जल्द में इसके ऊपर भी एक ब्लॉग लेकर जरूर आऊंगा,


सोमवार, 8 जुलाई 2019

जुलाई 08, 2019

motivational story in Hindi डर एक प्रेणादायक कहानी

motivational story in Hindi 

motivational story in Hindi डर
motivational story in Hindi डर

बहुत दिनों से मेरे पास Mobile नहीं था इसलिए एक भी story नहीं लिख पाया और ना ही अपनी बातें शेयर कर पाया लेकिन finally आज मैं एक motivational story को लेकर आपके साथ आया हु,

कहानी डर ई है उस डर की.. जो डर लोगों ने हमारे mind में डाल दिया है जिसको निकालना impossible तो नहीं लेकिन कुछ हद तक मुश्किल हो चुका है उसी डर को निकालने के लिए एक छोटी सी story आपके लिए लेकर आया हूं जिसे सुनने के बाद maybe आप कुछ हद तक अपने अंदर के डर को निकाल पाओगे, 

motivational story in Hindi डर एक प्रेणादायक कहानी


एक गांव था जिसमें एक गुफा(cave) थी, जब भी उस गांव का कोई इंसान उस गुफा में जाता था तो वह वापस लौटकर नहीं आता था, यह देख कर सारे गांव वालों ने उस गुफा की और जाना छोड़ दिया और कोई भी गांव वाला उस cave के आसपास भी नहीं जाता था but फिर भी कुछ ऐसे इंसान थे जो उस गुफा के पास जाते थे और वापस लौट कर नहीं आते थे,

इन्हें में से एक दिन एक लड़का जो नोजवान(youth) था जो इन सब बातों से अनजान था, बहुत सालों पहले वह शहर में study करने चला गया था but जब अपनी पढ़ाई को खत्म करके वह गांव में रहने के लिए आया तो उसे इन सब बातों का पता चला और उसने यह बात ठान लिया कि वह उस गुफा में जरूर जाएगा, 

जब वह यह बात सारे गांव वालों को बताने के लिए गया तो सब गांव वालों ने उसे कहा कि उस cave में मत जाना वहां पर बहुत खतरा है but फिर भी उसने लोगों की बात को अनदेखा करके उस गुफा में जाने का फैसला कर लिया, 


Motivational story in Hindi for youth 


एक दिन वह उस गुफा(cave) की और बढ़ा, जैसे ही गुफा उसके सामने आए तो उसे डर लगने लगा because वह भी इंसान था और बहुत ही छोटा था दूसरों के मुकाबले, फिर भी वह आगे बढ़ने लगा, जैसे ही वह गुफा के अंदर enter हुआ और कुछ फासला तय किया तो उसके चारों और अंधेरा छा गया और उसे कुछ भी दिखाई नहीं देने लगा but फिर भी वह आगे बढ़ा, 

बहुत आगे जाने के बाद किसी ने उसे पीछे से लकड़ी से वार किया जिसकी वजह से वह जमीन पर गिर गया और जब उसकी आंख खुली तो उसने देखा कि उनके चारों ओर पैसा ही पैसा है और जहां पर वो था वह एक बहुत ही अद्भुत नगरी थी, बचपन मे cartoon में जैसे दिखाते थे वैसी ही, 

उसके आसपास कुछ लोग थे जो वह लोग थे जो उस गांव से इस गुफा की ओर आए थे जब उस boy ने सब से पूछा कि यह सब क्या है तब सब लोगों ने कहा कि जब हम लोग इस गुफा में आए  तब हम लोगों ने यह सब देखा और हमने सोच लिया कि हम वापस कभी उस गांव में नहीं जाएंगे और ना ही वहां से आने वाले किसी भी इंसान को वापस वहा जाने देगे ताकि किसी को इस जगह का पता न चले, 

ऐसी बहुत सारी घटनाएं है जिनके पीछे डर होता है कोई भी लॉजिक नहीं होता buत जब हम उस लॉजिक को ढूंढने की कोशिश करते हैं तो हम चकित हो जाते हैं, बहुत सारे ऐसे डर है जो लोग हमारे mind में डाल देते हैं जो exull में आपका डर नहीं है लेकिन लोगों का डर है जो हमें आगे बढ़ने नहीं देना चाहता,

अगर आपको ऐसे डर को खोजना है तो आप उन लोगों के पास जा कर बैठिए, जो आपका बुरा चाहते हैं जो बाहर से आपको अपना दोस्त बनाते हैं और अंदर से चाहते हैं कि आप कुछ ना बन पाए, अगर आप उनकी बातों को गहराई से समझने की कोशिश करेगे तो आपको यह पता चलेगा कि आप किस डर के साथ जी रहे थे 

इस तरह से आपके दुश्मन भी आपको काम आ जायेंगे और आपको इस डर को अंदर से निकाल देना चाहिए इस डर की बहुत सारी कहानिया आपके साथ लाता रहुगा क्योंकि डर एक नहीं है डर अनगिनत है और उन अनगिनत डरो को कहानियों के साथ हम आगे भी समझते रहेंगे, जब तक सांसे है तब तक बाते भी है,